door ho maa baap se to zindagi kis kaam ki | दूर हो माँ बाप से तो ज़िन्दगी किस काम की - Tanoj Dadhich

door ho maa baap se to zindagi kis kaam ki
sukh nahin parivaar ka to naukri kis kaam ki

dekhna hai aapko to ektaak dekho hamein
aapki nazren ye hampar sarsari kis kaam ki

jab koi isko samajhta hi nahin ab dosto
isse achha bol lete khaamoshi kis kaam ki

sirf uski hi raza se log saansen le rahe
aur phir bhi poochte hain bandagi kis kaam ki

vo nahin tumko mile shohrat nahin tumko mili
phir tanoj aisi tumhaari shaayri kis kaam ki

दूर हो माँ बाप से तो ज़िन्दगी किस काम की
सुख नहीं परिवार का तो नौकरी किस काम की

देखना है आपको तो एकटक देखो हमें
आपकी नज़रें ये हमपर सरसरी किस काम की

जब कोई इसको समझता ही नहीं अब दोस्तो
इससे अच्छा बोल लेते ख़ामुशी किस काम की

सिर्फ़ उसकी ही रज़ा से लोग साँसें ले रहे
और फिर भी पूछते हैं बन्दगी किस काम की

वो नहीं तुमको मिले शोहरत नहीं तुमको मिली
फिर 'तनोज' ऐसी तुम्हारी शाइरी किस काम की

- Tanoj Dadhich
16 Likes

Deedar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tanoj Dadhich

As you were reading Shayari by Tanoj Dadhich

Similar Writers

our suggestion based on Tanoj Dadhich

Similar Moods

As you were reading Deedar Shayari Shayari