aaj jin jheelon ka bas kaaghaz mein naksha rah gaya | आज जिन झीलों का बस काग़ज़ में नक्शा रह गया - Tehzeeb Hafi

aaj jin jheelon ka bas kaaghaz mein naksha rah gaya
ek muddat tak main un aankhon se bahta rah gaya

main use na-qaabil-e-bardasht samjha tha magar
vo mere dil mein raha aur achha khaasa rah gaya

vo jo aadhe the tujhe milkar muqammal ho gaye
jo muqammal tha vo tere gham mein aadha rah gaya

आज जिन झीलों का बस काग़ज़ में नक्शा रह गया
एक मुद्दत तक मैं उन आँखों से बहता रह गया

मैं उसे ना-क़ाबिल-ए-बर्दाश्त समझा था मगर
वो मेरे दिल में रहा और अच्छा ख़ासा रह गया

वो जो आधे थे तुझे मिलकर मुक़म्मल हो गए
जो मुक़म्मल था वो तेरे ग़म में आधा रह गया

- Tehzeeb Hafi
52 Likes

Gham Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Gham Shayari Shayari