mallaahon ka dhyaan batakar dariya chori kar lena hai | मल्लाहों का ध्यान बटाकर दरिया चोरी कर लेना है, - Tehzeeb Hafi

mallaahon ka dhyaan batakar dariya chori kar lena hai
qatra qatra karke maine saara chori kar lena hai

tum usko majboor kiye rakhna baatein karte rahne par
itni der mein maine uska lehza chori kar lena hai

aaj to main apni tasveer ko kamre mein hi bhool aaya hoon
lekin usne ek din mera batua chori kar lena hai

mere khaak udaane par paabandi aayat karne waalon
maine kaun sa aapke shehar ka raasta chori kar lena hai

मल्लाहों का ध्यान बटाकर दरिया चोरी कर लेना है,
क़तरा क़तरा करके मैंने सारा चोरी कर लेना है।

तुम उसको मजबूर किए रखना बातें करते रहने पर
इतनी देर में मैंने उसका लहज़ा चोरी कर लेना है।

आज तो मैं अपनी तस्वीर को कमरे में ही भूल आया हूँ
लेकिन उसने एक दिन मेरा बटुआ चोरी कर लेना है।

मेरे ख़ाक उड़ाने पर पाबन्दी आयत करने वालों
मैंने कौन सा आपके शहर का रास्ता चोरी कर लेना है।

- Tehzeeb Hafi
25 Likes

Gaon Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Gaon Shayari Shayari