zakhamo ne mujh mein darwaaze khole hain | जख्मों ने मुझ में दरवाजे खोले हैं - Tehzeeb Hafi

zakhamo ne mujh mein darwaaze khole hain
maine waqt se pehle taanke khole hain

baahar aane ki bhi sakat nahin ham mein
tune kis mausam mein pinjare khole hain

kaun hamaari pyaas pe daaka daal gaya
kis ne maskejo ke tasme khole hain

yoon to mujhko kitne khat mosul hue
ek do aise the jo dil se khole hain

ye mera pehla ramjaan tha uske bagair
mat poocho kis munh se rozay khole hain

varna dhoop ka parvat kis se katata tha
usne chhatri khol ke raaste khole hain

जख्मों ने मुझ में दरवाजे खोले हैं
मैंने वक्त से पहले टांके खोलें हैं

बाहर आने की भी सकत नहीं हम में
तूने किस मौसम में पिंजरे खोले हैं

कौन हमारी प्यास पे डाका डाल गया
किस ने मस्कीजो के तसमे खोले हैं

यूं तो मुझको कितने खत मोसुल हुए
एक दो ऐसे थे जो दिल से खोलें हैं

ये मेरा पहला रमजान था उसके बगैर
मत पूछो किस मुंह से रोज़े खोलें हैं

वरना धूप का पर्वत किस से कटता था
उसने छतरी खोल के रास्ते खोले हैं

- Tehzeeb Hafi
33 Likes

Raasta Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Raasta Shayari Shayari