tumne to bas diya jalana hota hai | तुमने तो बस दिया जलाना होता है - Tehzeeb Hafi

tumne to bas diya jalana hota hai
hamne kitni door se aana hota hai

aansu aur dua mein koi fark nahin
ro dena bhi haath uthaana hota hai

mere saath parinde kuchh insaan bhi hain
maine apne ghar bhi jaana hota hai

tum ab un raston par ho tahzeeb jahaan
murkar takne par jurmaana hota hai

तुमने तो बस दिया जलाना होता है
हमने कितनी दूर से आना होता है

आँसू और दुआ में कोई फ़र्क नहीं
रो देना भी हाथ उठाना होता है

मेरे साथ परिन्दे कुछ इंसान भी हैं
मैंने अपने घर भी जाना होता है

तुम अब उन रस्तों पर हो तहज़ीब जहाँ
मुड़कर तकने पर जुर्माना होता है

- Tehzeeb Hafi
33 Likes

Diversity Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Diversity Shayari Shayari