mere bas mein nahin varna qudrat ka likha hua kaatta | मेरे बस में नहीं वरना कुदरत का लिखा हुआ काटता - Tehzeeb Hafi

mere bas mein nahin varna qudrat ka likha hua kaatta
tere hisse mein aaye bure din koi doosra kaatta

laariyon se zyaada bahaav tha tere har ik lafz mein
main ishaara nahin kaat saka teri baat kya kaatta

maine bhi zindagi aur shab ae hijr kaatee hai sabki tarah
vaise behtar to ye tha ke main kam se kam kuch naya kaatta

tere hote hue mombatti bujhaai kisi aur ne
kya khushi rah gayi thi janmdin ki main cake kya kaatta

koi bhi to nahin jo mere bhookhe rahne pe naaraz ho
jail mein teri tasveer hoti to hanskar saza kaatta

मेरे बस में नहीं वरना कुदरत का लिखा हुआ काटता
तेरे हिस्से में आए बुरे दिन कोई दूसरा काटता

लारियों से ज्यादा बहाव था तेरे हर इक लफ्ज़ में
मैं इशारा नहीं काट सकता तेरी बात क्या काटता

मैंने भी ज़िंदगी और शब ए हिज़्र काटी है सबकी तरह
वैसे बेहतर तो ये था के मैं कम से कम कुछ नया काटता

तेरे होते हुए मोमबत्ती बुझाई किसी और ने
क्या ख़ुशी रह गयी थी जन्मदिन की, मैं केक क्या काटता

कोई भी तो नहीं जो मेरे भूखे रहने पे नाराज़ हो
जेल में तेरी तस्वीर होती तो हंसकर सज़ा काटता

- Tehzeeb Hafi
345 Likes

Judai Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Judai Shayari Shayari