ye ek baat samajhne mein raat ho gai hai | ये एक बात समझने में रात हो गई है - Tehzeeb Hafi

ye ek baat samajhne mein raat ho gai hai
main us se jeet gaya hoon ki maat ho gai hai

main ab ke saal parindon ka din manaaunga
meri qareeb ke jungle se baat ho gai hai

bichhad ke tujh se na khush rah sakunga socha tha
tiri judaai hi vajh-e-nashaat ho gai hai

badan mein ek taraf din julu' main ne kiya
badan ke doosre hisse mein raat ho gai hai

main junglon ki taraf chal pada hoon chhod ke ghar
ye kya ki ghar ki udaasi bhi saath ho gai hai

rahega yaad madine se waapsi ka safar
main nazm likhne laga tha ki naat ho gai hai

ये एक बात समझने में रात हो गई है
मैं उस से जीत गया हूँ कि मात हो गई है

मैं अब के साल परिंदों का दिन मनाऊँगा
मिरी क़रीब के जंगल से बात हो गई है

बिछड़ के तुझ से न ख़ुश रह सकूंगा सोचा था
तिरी जुदाई ही वजह-ए-नशात हो गई है

बदन में एक तरफ़ दिन जुलूअ मैं ने किया
बदन के दूसरे हिस्से में रात हो गई है

मैं जंगलों की तरफ़ चल पडा हूंँ छोड़ के घर
ये क्या कि घर की उदासी भी साथ हो गई है

रहेगा याद मदीने से वापसी का सफ़र
मैं नज़्म लिखने लगा था कि नात हो गई है

- Tehzeeb Hafi
27 Likes

Nature Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Nature Shayari Shayari