khanjar-e-shab jo utar jaayenge aankhon mein meri | ख़ंजर-ए-शब जो उतर जाएँगे आँखों में मिरी - Unknown

khanjar-e-shab jo utar jaayenge aankhon mein meri
manzar-e-raftaa thehar jaayenge aankhon mein meri

zulm sahne ke liye rakhta hoon patthar ka jigar
ashk-e-gham yoonhi na bhar jaayenge aankhon mein meri

hoga baazu se numayaan meri jurat ka kamaal
haadse jab bhi thehar jaayenge aankhon mein meri

jab bhi aayega mujhe ahad-e-guzishta ka khayal
kitne toofaan se bifar jaayenge aankhon mein meri

kis tarah khud mein utaarenge sehar ka nashsha
zakham-e-shab neenden jo dhar jaayenge aankhon mein meri

ख़ंजर-ए-शब जो उतर जाएँगे आँखों में मिरी
मंज़र-ए-रफ़्ता ठहर जाएँगे आँखों में मिरी

ज़ुल्म सहने के लिए रखता हूँ पत्थर का जिगर
अश्क-ए-ग़म यूँही न भर जाएँगे आँखों में मिरी

होगा बाज़ू से नुमायाँ मिरी जुरअत का कमाल
हादसे जब भी ठहर जाएँगे आँखों में मिरी

जब भी आएगा मुझे अहद-ए-गुज़िश्ता का ख़याल
कितने तूफ़ाँ से बिफर जाएँगे आँखों में मिरी

किस तरह ख़ुद में उतारेंगे सहर का नश्शा
ज़ख़्म-ए-शब नींदें जो धर जाएँगे आँखों में मिरी

- Unknown
1 Like

Yaad Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Unknown

As you were reading Shayari by Unknown

Similar Writers

our suggestion based on Unknown

Similar Moods

As you were reading Yaad Shayari Shayari