vo jiske paanv mein rakhe hon kaainaat ke phool | वो जिसके पाँव में रक्खे हों काइनात के फूल - Varun Anand

vo jiske paanv mein rakhe hon kaainaat ke phool
qubool kaise karega vo mere haath ke phool

bani bhi us ki kisi se to sirf ham se hi
use pasand bhi aaye to kaagazaat ke phool

kisi ka tohfa kisi aur ko diya usne
kisi ko de diye usne kisi ke haath ke phool

liye gaye the kisi sej par bichaane ko
janaaza kha gaya saare suhaagraat ke phool

vo khushbuon ka bhi mazhab nikaal leta hai
use ye lagta hai hote hain zaat paat ke phool

udaas logon ko dete nahin hain phool udaas
sehar mein dena na usko kabhi bhi raat ke phool

kisi zamaane mein mehnga nahin tha ishq miyaan
ki chaai dhaai ki aati thi saadhe saath ke phool

वो जिसके पाँव में रक्खे हों काइनात के फूल
क़ुबूल कैसे करेगा वो मेरे हाथ के फूल

बनी भी उस की किसी से तो सिर्फ़ हम से ही
उसे पसंद भी आए तो काग़ज़ात के फूल

किसी का तोहफ़ा किसी और को दिया उसने
किसी को दे दिए उसने किसी के हाथ के फूल

लिए गए थे किसी सेज पर बिछाने को
जनाज़ा खा गया सारे सुहागरात के फूल

वो ख़ुश्बुओं का भी मज़हब निकाल लेता है
उसे ये लगता है होते हैं ज़ात पात के फूल

उदास लोगों को देते नहीं हैं फूल उदास
सहर में देना न उसको कभी भी रात के फूल

किसी ज़माने में महँगा नहीं था इश्क़ मियाँ
कि चाय ढाई की आती थी साढे सात के फूल

- Varun Anand
16 Likes

Mazhab Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Varun Anand

As you were reading Shayari by Varun Anand

Similar Writers

our suggestion based on Varun Anand

Similar Moods

As you were reading Mazhab Shayari Shayari