waqt mushkil kat raha hai aur to sab theek hai | वक़्त मुश्किल कट रहा है, और तो सब ठीक है - Varun Anand

waqt mushkil kat raha hai aur to sab theek hai
dil zara naashaad sa hai aur to sab theek hai

aankh ke baadal barsate ja rahe hain raat din
gaav mein sookha pada hai aur to sab theek hai

vo jo do paude laga kar tum gaye the shehar ko
un mein ik murjha gaya hai aur to sab theek hai

zakham tha to dard se bhi jee bahl jaata tha kuchh
ab to vo bhi bhar gaya hai aur to sab theek hai

koshishein karte hain shab bhar neend par aati nahin
kaam se jee bhaagta hai aur to sab theek hai

rooh to pehle hi tere saath rukhsat ho gai
jism aadha rah gaya hai aur to sab theek hai

tere bin kya theek hai aur kya nahin ye tu samajh
maine yun hi kah diya hai aur to sab theek hai

वक़्त मुश्किल कट रहा है, और तो सब ठीक है
दिल ज़रा नाशाद सा है, और तो सब ठीक है

आँख के बादल बरसते जा रहे हैं रात दिन
गाँव में सूखा पड़ा है और तो सब ठीक है

वो जो दो पौदे लगा कर तुम गए थे शहर को
उन में इक मुरझा गया है, और तो सब ठीक है

ज़ख़्म था तो दर्द से भी जी बहल जाता था कुछ
अब तो वो भी भर गया है, और तो सब ठीक है

कोशिशें करते हैं शब भर नींद पर आती नहीं
काम से जी भागता है, और तो सब ठीक है

रूह तो पहले ही तेरे साथ रुख़सत हो गई
जिस्म आधा रह गया है, और तो सब ठीक है

तेरे बिन क्या ठीक है और क्या नहीं ये तू समझ
मैने यूँ ही कह दिया है और तो सब ठीक है

- Varun Anand
17 Likes

Good night Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Varun Anand

As you were reading Shayari by Varun Anand

Similar Writers

our suggestion based on Varun Anand

Similar Moods

As you were reading Good night Shayari Shayari