aate aate mera naam sa rah gaya | आते आते मिरा नाम सा रह गया - Waseem Barelvi

aate aate mera naam sa rah gaya
us ke honton pe kuch kaanpata rah gaya

raat mujrim thi daaman bacha le gai
din gawaahon. ki saf mein khada rah gaya

vo mere saamne hi gaya aur main
raaste ki tarah dekhta rah gaya

jhooth waale kahi se kahi badh gaye
aur main tha ki sach bolta rah gaya

aandhiyon ke iraade to achhe na the
ye diya kaise jalta hua rah gaya

us ko kaandhon pe le ja rahe hain waseem
aur vo jeene ka haq maangata rah gaya

आते आते मिरा नाम सा रह गया
उस के होंटों पे कुछ काँपता रह गया

रात मुजरिम थी दामन बचा ले गई
दिन गवाहों की सफ़ में खड़ा रह गया

वो मिरे सामने ही गया और मैं
रास्ते की तरह देखता रह गया

झूट वाले कहीं से कहीं बढ़ गए
और मैं था कि सच बोलता रह गया

आँधियों के इरादे तो अच्छे न थे
ये दिया कैसे जलता हुआ रह गया

उस को काँधों पे ले जा रहे हैं 'वसीम'
और वो जीने का हक़ माँगता रह गया

- Waseem Barelvi
5 Likes

Dhokha Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Waseem Barelvi

As you were reading Shayari by Waseem Barelvi

Similar Writers

our suggestion based on Waseem Barelvi

Similar Moods

As you were reading Dhokha Shayari Shayari