andhera zehan ka samt-e-safar jab khone lagta hai | अंधेरा ज़ेहन का सम्त-ए-सफ़र जब खोने लगता है - Waseem Barelvi

andhera zehan ka samt-e-safar jab khone lagta hai
kisi ka dhyaan aata hai ujaala hone lagta hai

vo jitni door ho utna hi mera hone lagta hai
magar jab paas aata hai to mujh se khone lagta hai

kisi ne rakh diye mamta-bhare do haath kya sar par
mere andar koi baccha bilak kar rone lagta hai

mohabbat chaar din ki aur udaasi zindagi bhar ki
yahi sab dekhta hai aur kabeera rone lagta hai

samjhte hi nahin naadaan kai din ki hai milkiiyyat
paraaye kheton pe apnon mein jhagda hone lagta hai

ye dil bach kar zamaane bhar se chalna chahe hai lekin
jab apni raah chalta hai akela hone lagta hai

अंधेरा ज़ेहन का सम्त-ए-सफ़र जब खोने लगता है
किसी का ध्यान आता है उजाला होने लगता है

वो जितनी दूर हो उतना ही मेरा होने लगता है
मगर जब पास आता है तो मुझ से खोने लगता है

किसी ने रख दिए ममता-भरे दो हाथ क्या सर पर
मिरे अंदर कोई बच्चा बिलक कर रोने लगता है

मोहब्बत चार दिन की और उदासी ज़िंदगी भर की
यही सब देखता है और 'कबीरा' रोने लगता है

समझते ही नहीं नादान कै दिन की है मिल्किय्यत
पराए खेतों पे अपनों में झगड़ा होने लगता है

ये दिल बच कर ज़माने भर से चलना चाहे है लेकिन
जब अपनी राह चलता है अकेला होने लगता है

- Waseem Barelvi
7 Likes

Zindagi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Waseem Barelvi

As you were reading Shayari by Waseem Barelvi

Similar Writers

our suggestion based on Waseem Barelvi

Similar Moods

As you were reading Zindagi Shayari Shayari