kaun-si baat kahaan kaise kahi jaati hai | कौन-सी बात कहाँ, कैसे कही जाती है - Waseem Barelvi

kaun-si baat kahaan kaise kahi jaati hai
ye saleeqa ho to har baat sooni jaati hai

jaisa chaaha tha tujhe dekh na paaye duniya
dil mein bas ek ye hasrat hi rahi jaati hai

ek bigdi hui aulaad bhala kya jaane
kaise maa-baap ke honthon se hasi jaati hai

karz ka bojh uthaaye hue chalne ka azaab
jaise sar par koi deewaar giri jaati hai

apni pehchaan mita dena ho jaise sab kuch
jo nadi hai vo samandar se mili jaati hai

poochna hai to ghazal waalon se poocho jaakar
kaise har baat saleeke se kahi jaati hai

कौन-सी बात कहाँ, कैसे कही जाती है
ये सलीक़ा हो, तो हर बात सुनी जाती है

जैसा चाहा था तुझे, देख न पाये दुनिया
दिल में बस एक ये हसरत ही रही जाती है

एक बिगड़ी हुई औलाद भला क्या जाने
कैसे माँ-बाप के होंठों से हँसी जाती है

कर्ज़ का बोझ उठाये हुए चलने का अज़ाब
जैसे सर पर कोई दीवार गिरी जाती है

अपनी पहचान मिटा देना हो जैसे सब कुछ
जो नदी है वो समंदर से मिली जाती है

पूछना है तो ग़ज़ल वालों से पूछो जाकर
कैसे हर बात सलीक़े से कही जाती है

- Waseem Barelvi
5 Likes

Dariya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Waseem Barelvi

As you were reading Shayari by Waseem Barelvi

Similar Writers

our suggestion based on Waseem Barelvi

Similar Moods

As you were reading Dariya Shayari Shayari