chala hai silsila kaisa ye raaton ko manaane ka | चला है सिलसिला कैसा ये रातों को मनाने का - Waseem Barelvi

chala hai silsila kaisa ye raaton ko manaane ka
tumhein haq de diya kisne diyon ke dil dukhaane ka

iraada chhodiye apni hadon se door jaane ka
zamaana hai zamaane ki nigaahon mein na aane ka

kahaan ki dosti kin doston ki baat karte ho
miyaan dushman nahin milta koi ab to thikaane ka

nigaahon mein koi bhi doosra chehra nahin aaya
bharosa hi kuchh aisa tha tumhaare laut aane ka

ye main hi tha bacha ke khud ko le aaya kinaare tak
samandar ne bahut mauqa diya tha doob jaane ka

चला है सिलसिला कैसा ये रातों को मनाने का
तुम्हें हक़ दे दिया किसने दियों के दिल दुखाने का

इरादा छोड़िए अपनी हदों से दूर जाने का
ज़माना है ज़माने की निगाहों में न आने का

कहाँ की दोस्ती किन दोस्तों की बात करते हो
मियाँ दुश्मन नहीं मिलता कोई अब तो ठिकाने का

निगाहों में कोई भी दूसरा चेहरा नहीं आया
भरोसा ही कुछ ऐसा था तुम्हारे लौट आने का

ये मैं ही था बचा के ख़ुद को ले आया किनारे तक
समन्दर ने बहुत मौक़ा दिया था डूब जाने का

- Waseem Barelvi
100 Likes

Nature Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Waseem Barelvi

As you were reading Shayari by Waseem Barelvi

Similar Writers

our suggestion based on Waseem Barelvi

Similar Moods

As you were reading Nature Shayari Shayari