tahreer se warna meri kya ho nahin saka | तहरीर से वर्ना मिरी क्या हो नहीं सकता - Waseem Barelvi

tahreer se warna meri kya ho nahin saka
ik tu hai jo lafzon mein ada ho nahin saka

aankhon mein khayaalaat mein saanson mein basa hai
chahe bhi to mujh se vo juda ho nahin saka

jeena hai to ye jabr bhi sahna hi padega
qatra hoon samundar se khafa ho nahin saka

gumraah kiye honge kai phool se jazbe
aise to koi raah-numa ho nahin saka

qad mera badhaane ka use kaam mila hai
jo apne hi pairo'n pe khada ho nahin saka

ai pyaar tire hisse mein aaya tiri qismat
vo dard jo chehron se ada ho nahin saka

तहरीर से वर्ना मिरी क्या हो नहीं सकता
इक तू है जो लफ़्ज़ों में अदा हो नहीं सकता

आँखों में ख़यालात में साँसों में बसा है
चाहे भी तो मुझ से वो जुदा हो नहीं सकता

जीना है तो ये जब्र भी सहना ही पड़ेगा
क़तरा हूँ समुंदर से ख़फ़ा हो नहीं सकता

गुमराह किए होंगे कई फूल से जज़्बे
ऐसे तो कोई राह-नुमा हो नहीं सकता

क़द मेरा बढ़ाने का उसे काम मिला है
जो अपने ही पैरों पे खड़ा हो नहीं सकता

ऐ प्यार तिरे हिस्से में आया तिरी क़िस्मत
वो दर्द जो चेहरों से अदा हो नहीं सकता

- Waseem Barelvi
1 Like

Phool Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Waseem Barelvi

As you were reading Shayari by Waseem Barelvi

Similar Writers

our suggestion based on Waseem Barelvi

Similar Moods

As you were reading Phool Shayari Shayari