ye hai to sab ke liye ho ye zid hamaari hai | ये है तो सब के लिए हो ये ज़िद हमारी है - Waseem Barelvi

ye hai to sab ke liye ho ye zid hamaari hai
is ek baat pe duniya se jang jaari hai

udaan waalo uraano pe waqt bhari hai
paron ki ab ke nahin hauslon ki baari hai

main qatra ho ke bhi toofaan se jang leta hoon
mujhe bachaana samundar ki zimmedaari hai

isee se jalte hain sehra-e-aarzoo mein charaagh
ye tishnagi to mujhe zindagi se pyaari hai

koi bataaye ye us ke ghuroor-e-beja ko
vo jang main ne ladi hi nahin jo haari hai

har ek saans pe pahra hai be-yaqeeni ka
ye zindagi to nahin maut ki sawaari hai

dua karo ki salaamat rahe meri himmat
ye ik charaagh kai aandhiyon pe bhari hai

ये है तो सब के लिए हो ये ज़िद हमारी है
इस एक बात पे दुनिया से जंग जारी है

उड़ान वालो उड़ानों पे वक़्त भारी है
परों की अब के नहीं हौसलों की बारी है

मैं क़तरा हो के भी तूफ़ाँ से जंग लेता हूँ
मुझे बचाना समुंदर की ज़िम्मेदारी है

इसी से जलते हैं सहरा-ए-आरज़ू में चराग़
ये तिश्नगी तो मुझे ज़िंदगी से प्यारी है

कोई बताए ये उस के ग़ुरूर-ए-बेजा को
वो जंग मैं ने लड़ी ही नहीं जो हारी है

हर एक साँस पे पहरा है बे-यक़ीनी का
ये ज़िंदगी तो नहीं मौत की सवारी है

दुआ करो कि सलामत रहे मिरी हिम्मत
ये इक चराग़ कई आँधियों पे भारी है

- Waseem Barelvi
8 Likes

Baaten Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Waseem Barelvi

As you were reading Shayari by Waseem Barelvi

Similar Writers

our suggestion based on Waseem Barelvi

Similar Moods

As you were reading Baaten Shayari Shayari