sirf tera naam le kar rah gaya | सिर्फ़ तेरा नाम ले कर रह गया - Waseem Barelvi

sirf tera naam le kar rah gaya
aaj deewaana bahut kuchh kah gaya

kya meri taqdeer mein manzil nahin
fasla kyun muskuraa kar rah gaya

zindagi duniya mein aisa ashk thi
jo zara palkon pe thehra bah gaya

aur kya tha us ki pursish ka jawaab
apne hi aansu chhupa kar rah gaya

us se pooch ai kaamyaab-e-zindagi
jis ka afsaana adhoora rah gaya

haaye kya deewaangi thi ai waseem
jo na kehna chahiye tha kah gaya

सिर्फ़ तेरा नाम ले कर रह गया
आज दीवाना बहुत कुछ कह गया

क्या मिरी तक़दीर में मंज़िल नहीं
फ़ासला क्यूँ मुस्कुरा कर रह गया

ज़िंदगी दुनिया में ऐसा अश्क थी
जो ज़रा पलकों पे ठहरा बह गया

और क्या था उस की पुर्सिश का जवाब
अपने ही आँसू छुपा कर रह गया

उस से पूछ ऐ कामयाब-ए-ज़िंदगी
जिस का अफ़्साना अधूरा रह गया

हाए क्या दीवानगी थी ऐ 'वसीम'
जो न कहना चाहिए था कह गया

- Waseem Barelvi
1 Like

Sad Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Waseem Barelvi

As you were reading Shayari by Waseem Barelvi

Similar Writers

our suggestion based on Waseem Barelvi

Similar Moods

As you were reading Sad Shayari Shayari