door se hi bas dariya dariya lagta hai | दूर से ही बस दरिया दरिया लगता है - Waseem Barelvi

door se hi bas dariya dariya lagta hai
doob ke dekho kitna pyaasa lagta hai

tanhaa ho to ghabraaya sa lagta hai
bheed mein us ko dekh ke achha lagta hai

aaj ye hai kal aur yahan hoga koi
socho to sab khel-tamasha lagta hai

main hi na maanoon mere bikharna mein warna
duniya bhar ko haath tumhaara lagta hai

zehan se kaaghaz par tasveer utarte hi
ek musavvir kitna akela lagta hai

pyaar ke is nashsha ko koi kya samjhe
thokar mein jab saara zamaana lagta hai

bheed mein rah kar apna bhi kab rah paata
chaand akela hai to sab ka lagta hai

shaakh pe baithi bholi-bhaali ik chidiya
kya jaane us par bhi nishaana lagta hai

दूर से ही बस दरिया दरिया लगता है
डूब के देखो कितना प्यासा लगता है

तन्हा हो तो घबराया सा लगता है
भीड़ में उस को देख के अच्छा लगता है

आज ये है कल और यहाँ होगा कोई
सोचो तो सब खेल-तमाशा लगता है

मैं ही न मानूँ मेरे बिखरने में वर्ना
दुनिया भर को हाथ तुम्हारा लगता है

ज़ेहन से काग़ज़ पर तस्वीर उतरते ही
एक मुसव्विर कितना अकेला लगता है

प्यार के इस नश्शा को कोई क्या समझे
ठोकर में जब सारा ज़माना लगता है

भीड़ में रह कर अपना भी कब रह पाता
चाँद अकेला है तो सब का लगता है

शाख़ पे बैठी भोली-भाली इक चिड़िया
क्या जाने उस पर भी निशाना लगता है

- Waseem Barelvi
3 Likes

DP Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Waseem Barelvi

As you were reading Shayari by Waseem Barelvi

Similar Writers

our suggestion based on Waseem Barelvi

Similar Moods

As you were reading DP Shayari Shayari