chalo ham hi pehal kar den ki ham se bad-gumaan kyun ho | चलो हम ही पहल कर दें कि हम से बद-गुमाँ क्यूँ हो - Waseem Barelvi

chalo ham hi pehal kar den ki ham se bad-gumaan kyun ho
koi rishta zara si zid ki khaatir raayegaan kyun ho

main zinda hoon to is zinda-zameeri ki badaulat hi
jo bole tere lehje mein bhala meri zabaan kyun ho

sawaal aakhir ye ik din dekhna ham hi uthaayenge
na samjhe jo zameen ke gham vo apna aasmaan kyun ho

hamaari guftugoo ki aur bhi gaddaari bahut si hain
kisi ka dil dukhaane hi ko phir apni zabaan kyun ho

bikhar kar rah gaya hamsaayagi ka khwaab hi warna
diye is ghar mein raushan hon to us ghar mein dhuaan kyun ho

mohabbat aasmaan ko jab zameen karne ki zid thehri
to phir buzdil usoolon ki sharaafat darmiyaan kyun ho

ummeedein saari duniya se waseem aur khud mein aise gham
kisi pe kuchh na zaahir ho to koi meherbaan kyun ho

चलो हम ही पहल कर दें कि हम से बद-गुमाँ क्यूँ हो
कोई रिश्ता ज़रा सी ज़िद की ख़ातिर राएगाँ क्यूँ हो

मैं ज़िंदा हूँ तो इस ज़िंदा-ज़मीरी की बदौलत ही
जो बोले तेरे लहजे में भला मेरी ज़बाँ क्यूँ हो

सवाल आख़िर ये इक दिन देखना हम ही उठाएँगे
न समझे जो ज़मीं के ग़म वो अपना आसमाँ क्यूँ हो

हमारी गुफ़्तुगू की और भी सम्तें बहुत सी हैं
किसी का दिल दुखाने ही को फिर अपनी ज़बाँ क्यूँ हो

बिखर कर रह गया हमसायगी का ख़्वाब ही वर्ना
दिए इस घर में रौशन हों तो उस घर में धुआँ क्यूँ हो

मोहब्बत आसमाँ को जब ज़मीं करने की ज़िद ठहरी
तो फिर बुज़दिल उसूलों की शराफ़त दरमियाँ क्यूँ हो

उम्मीदें सारी दुनिया से 'वसीम' और ख़ुद में ऐसे ग़म
किसी पे कुछ न ज़ाहिर हो तो कोई मेहरबाँ क्यूँ हो

- Waseem Barelvi
4 Likes

Valentine Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Waseem Barelvi

As you were reading Shayari by Waseem Barelvi

Similar Writers

our suggestion based on Waseem Barelvi

Similar Moods

As you were reading Valentine Shayari Shayari