Khalid Azad

Khalid Azad

ज़िंदगी से गर हमें थोड़ी बहुत मोहलत मिली
बैठ कर है सोचना किस बात की उजरत मिली

  • Sher
  • Ghazal

LOAD MORE

More Writers like Khalid Azad

How's your Mood?

Latest Blog

Upcoming Festivals