Mah Talat Zahidi

Mah Talat Zahidi

@mah-talat-zahidi

Mah Talat Zahidi shayari collection includes sher, ghazal and nazm available in Hindi and English. Dive in Mah Talat Zahidi's shayari and don't forget to save your favorite ones.

Followers

0

Content

11

Likes

0

Shayari
Audios
  • Ghazal
  • Nazm
इक परिंदा सर-ए-दीवार भी बाक़ी न रहा
अब तो पर्वाज़ का दीदार भी बाक़ी न रहा

हब्स ऐसा था कि साए में सुलग उट्ठे गुलाब
लू चली ऐसी कि गुलज़ार भी बाक़ी न रहा

लोग दम साध गए ख़ौफ़ ने घेरा ऐसे
कोई अंदेशा-ए-बे-कार भी बाक़ी न रहा

हादिसा क्या हुआ बिखरे हुए सन्नाटे में
लफ़्ज़ से रिश्ता-ए-इज़हार भी बाक़ी न रहा

एक वहशत ही मताअ-ए-ग़म-ए-जानाँ निकली
लुत्फ़-ए-दिलदारी-ए-ग़म-ख़्वार भी बाक़ी न रहा

जाँ सिसकती रही ख़्वाहिश के बयाबानों में
शौक़-ए-हर-लहज़ा का आज़ार भी बाक़ी न रहा

दिल भी यादों की कड़ी धूप में कुम्हला सा गया
और कोई साया-ए-दीवार भी बाक़ी न रहा

ऐसी वीरानी है ख़ुद मौत भी कतरा के चली
कोई मरने का सज़ा-वार भी बाक़ी न रहा
Read Full
Mah Talat Zahidi