dame-sukh hi tabiyat lahu lahu ki jaaye | दमे-सुख़न ही तबीयत लहू लहू की जाए - Abbas Tabish

dame-sukh hi tabiyat lahu lahu ki jaaye
koi to ho ki tiri jisse guftagoo ki jaaye

ye nuqta kate shajar ne mujhe kiya taaleem
ki dukh to milte hain gar khwaahish-e-namoo ki jaaye

qaseeda-kaar-e-azal tujhko etiraaz to nain
kahi kahi se agar zindagi rafu ki jaaye

main ye bhi chahta hoon ishq ka na ho ilzaam
main ye bhi chahta hoon teri aarzoo ki jaaye

mohabbaton mein to shijre kabhi nahin mazzkoor
tu chahta hai ki maslak pe guftagoo ki jaaye

meri tarah se ujadkar basaaein shahre-sukhan
jo naql karne hai meri to hoo-b-hoo ki jaaye

दमे-सुख़न ही तबीयत लहू लहू की जाए
कोई तो हो कि तिरी जिससे गुफ़्तगू की जाए

ये नुक़्ता कटते शजर ने मुझे किया तालीम
कि दुख तो मिलते हैं गर ख़्वाहिश-ए-नमू की जाए

क़सीदा-कार-ए-अज़ल तुझको एतराज़ तो नइँ
कहीं कहीं से अगर ज़िन्दगी रफ़ू की जाए

मैं ये भी चाहता हूँ इश्क़ का न हो इल्ज़ाम
मैं ये भी चाहता हूँ तेरी आरज़ू की जाए

मुहब्बतों में तो शिजरे कभी नहीं मज़्कूर
तू चाहता है कि मसलक पे गुफ़्तगू की जाए

मिरी तरह से उजड़कर बसाएँ शहरे-सुखन
जो नक़्ल करनी है मेरी तो हू-ब-हू की जाए

- Abbas Tabish
7 Likes

Sad Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Abbas Tabish

As you were reading Shayari by Abbas Tabish

Similar Writers

our suggestion based on Abbas Tabish

Similar Moods

As you were reading Sad Shayari Shayari