ye bata yaum-e-mohabbat ka samaan hai ki nahin | ये बता यौम-ए-मोहब्बत का समाँ है कि नहीं - Abbas Tabish

ye bata yaum-e-mohabbat ka samaan hai ki nahin
shehar ka shehar gulaabon ki dukaaan hai ki nahin

aadatan uske liye phool khareede varna
nahin maaloom vo is baar yahan hai ki nahin

ye tere baad jo leta hoon main lambi saansen
mujhko ye jaanna hai jism mein jaan hai ki nahin

ham to phoolon ke evaz phool liya karte hain
kya khabar iska rivaaz aap ke yahan hai ki nahin

us gali ka to pata theek bataaya tune
ye bata us mein vo dildaar makaan hai ki nahin

pehle to mujhko dilaate hai vo gussa taabish
aur phir poochte hai munh mein zabaan hai ki nahin

ये बता यौम-ए-मोहब्बत का समाँ है कि नहीं
शहर का शहर गुलाबों की दुकाँ है कि नहीं

आदतन उसके लिए फूल खरीदे वरना
नहीं मालूम वो इस बार यहाँ है कि नहीं

ये तेरे बाद जो लेता हूँ मैं लंबी साँसें
मुझको ये जानना है जिस्म में जाँ है कि नहीं

हम तो फूलों के एवज़ फूल लिया करते हैं
क्या ख़बर इसका रिवाज़ आप के यहाँ है कि नहीं

उस गली का तो पता ठीक बताया तूने
ये बता उस में वो दिलदार मकाँ है कि नहीं

पहले तो मुझको दिलाते है वो ग़ुस्सा 'ताबिश'
और फिर पूछते है मुँह में ज़बाँ है कि नहीं

- Abbas Tabish
12 Likes

Khushboo Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Abbas Tabish

As you were reading Shayari by Abbas Tabish

Similar Writers

our suggestion based on Abbas Tabish

Similar Moods

As you were reading Khushboo Shayari Shayari