gulon si guftugoo karein qayaamaton ke darmiyaan | गुलों सी गुफ़्तुगू करें क़यामतों के दरमियाँ - Ada Jafarey

gulon si guftugoo karein qayaamaton ke darmiyaan
hum aise log ab milen hikaayaton ke darmiyaan

lahooluhaan ungaliyaan hain aur chup khadi hoon main
gul o saman ki be-panaah chaahaton ke darmiyaan

hateliyon ki ot hi charaagh le chaloon abhi
abhi sehar ka zikr hai rivaayaton ke darmiyaan

jo dil mein thi nigaah si nigaah mein kiran si thi
vo dastaan uljh gai vazaahaton ke darmiyaan

sahifa-e-hayaat mein jahaan jahaan likhi gai
likhi gai hadees-e-jaan zaraahaton ke darmiyaan

koi nagar koi gali shajar ki chaanv hi sahi
ye zindagi na kat sake masaafton ke darmiyaan

ab us ke khaal-o-khud ka rang mujh se poochna abas
nigaah jhapak jhapak gai iraadaton ke darmiyaan

saba ka haath thaam kar ada na chal sakogi tum
tamaam umr khwaab khwaab saaton ke darmiyaan

गुलों सी गुफ़्तुगू करें क़यामतों के दरमियाँ
हम ऐसे लोग अब मिलें हिकायतों के दरमियाँ

लहूलुहान उँगलियाँ हैं और चुप खड़ी हूँ मैं
गुल ओ समन की बे-पनाह चाहतों के दरमियाँ

हथेलियों की ओट ही चराग़ ले चलूँ अभी
अभी सहर का ज़िक्र है रिवायतों के दरमियाँ

जो दिल में थी निगाह सी निगाह में किरन सी थी
वो दास्ताँ उलझ गई वज़ाहतों के दरमियाँ

सहीफ़ा-ए-हयात में जहाँ जहाँ लिखी गई
लिखी गई हदीस-ए-जाँ जराहतों के दरमियाँ

कोई नगर कोई गली शजर की छाँव ही सही
ये ज़िंदगी न कट सके मसाफ़तों के दरमियाँ

अब उस के ख़ाल-ओ-ख़द का रंग मुझ से पूछना अबस
निगह झपक झपक गई इरादतों के दरमियाँ

सबा का हाथ थाम कर 'अदा' न चल सकोगी तुम
तमाम उम्र ख़्वाब ख़्वाब साअतों के दरमियाँ

- Ada Jafarey
1 Like

Khoon Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ada Jafarey

As you were reading Shayari by Ada Jafarey

Similar Writers

our suggestion based on Ada Jafarey

Similar Moods

As you were reading Khoon Shayari Shayari