vikat baadh ki karun kahaani nadiyon ka sannyaas likha hai | विकट बाढ़ की करुण कहानी नदियों का संन्यास लिखा है - Adam Gondvi

vikat baadh ki karun kahaani nadiyon ka sannyaas likha hai
boodhe bargad ke valkal par sadiyon ka itihaas likha hai

kroor niyati ne iski kismat se kaisa khilwaar kiya hai
man ke prishthon par shaakuntal adhron par santraas likha hai

chaaya madir mehkati rahti goya tulsi ki chaupaai
lekin swapnil smritiyon mein seeta ka vanvaas likha hai

naagfanee jo ugaa rahe hain gamlon mein gulaab ke badle
shaakhon par us shaapit peedhi ka khandit vishwas likha hai

loo ke garm jhakoron se jab pachua tan ko jhulsa jaati
isne mere tanhaai ke maruthal mein madhumaas likha hai

ardhatripti uddaam vaasna ye maanav jeevan ka sach hai
dharti ke is khandkaavya par virhadagdh uchhwaas likha hai

विकट बाढ़ की करुण कहानी नदियों का संन्यास लिखा है
बूढ़े बरगद के वल्कल पर सदियों का इतिहास लिखा है

क्रूर नियति ने इसकी किस्मत से कैसा खिलवाड़ किया है
मन के पृष्ठों पर शाकुंतल अधरों पर संत्रास लिखा है

छाया मदिर महकती रहती गोया तुलसी की चौपाई
लेकिन स्वप्निल स्मृतियों में सीता का वनवास लिखा है

नागफनी जो उगा रहे हैं गमलों में गुलाब के बदले
शाखों पर उस शापित पीढ़ी का खंडित विश्वास लिखा है

लू के गर्म झकोरों से जब पछुआ तन को झुलसा जाती
इसने मेरे तनहाई के मरुथल में मधुमास लिखा है

अर्धतृप्ति उद्दाम वासना ये मानव जीवन का सच है
धरती के इस खंडकाव्य पर विरहदग्ध उच्छ्वास लिखा है

- Adam Gondvi
0 Likes

Paani Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Adam Gondvi

As you were reading Shayari by Adam Gondvi

Similar Writers

our suggestion based on Adam Gondvi

Similar Moods

As you were reading Paani Shayari Shayari