kab tak sahenge zulm rafeeqo-raqeeb ke | कब तक सहेंगे ज़ुल्म रफ़ीक़ो-रक़ीब के - Adam Gondvi

kab tak sahenge zulm rafeeqo-raqeeb ke
sholon mein ab dhallenge ye aansoo gareeb ke

ik hum hain bhukhmari ke jahannum mein jal rahe
ik aap hain duhraa rahe qisse naseeb ke

utri hai jabse gaanv mein faqaakashi ki shaam
bemaani hoke rah gaye rishte qareeb ke

ik haath mein qalam hai aur ik haath mein qudaal
bawasta hain zameen se sapne adeeb ke

कब तक सहेंगे ज़ुल्म रफ़ीक़ो-रक़ीब के
शोलों में अब ढलेंगे ये आंसू ग़रीब के

इक हम हैं भुखमरी के जहन्नुम में जल रहे
इक आप हैं दुहरा रहे क़िस्से नसीब के

उतरी है जबसे गांव में फ़ाक़ाकशी की शाम
बेमानी होके रह गए रिश्ते क़रीब के

इक हाथ में क़लम है और इक हाथ में क़ुदाल
बावस्ता हैं ज़मीन से सपने अदीब के

- Adam Gondvi
1 Like

Inquilab Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Adam Gondvi

As you were reading Shayari by Adam Gondvi

Similar Writers

our suggestion based on Adam Gondvi

Similar Moods

As you were reading Inquilab Shayari Shayari