zindagi beshumaar raaste hain | ज़िंदगी बेशुमार रस्ते हैं - Ahmad Abdullah

zindagi beshumaar raaste hain
khud ko mujhse guzaar raaste hain

ek rasta hai sirf masjid ko
maykade ko hazaar raaste hain

kaafila mar raha hai sunne ko
bol de shah-sawaar raaste hain

ishq ne hi kaha tha moosa ko
ho ja dariya ke paar raaste hain

is ilaake mein ek shayar hai
isliye sogwaar raaste hain

ज़िंदगी बेशुमार रस्ते हैं
ख़ुद को मुझसे गुज़ार रस्ते हैं

एक रस्ता है सिर्फ़ मस्जिद को
मयकदे को हज़ार रस्ते हैं

काफ़िला मर रहा है सुनने को
बोल दे शह-सवार रस्ते हैं

इश्क़ ने ही कहा था मूसा को
हो जा दरिया के पार रस्ते हैं

इस इलाके में एक शायर है
इसलिए सोगवार रस्ते हैं

- Ahmad Abdullah
14 Likes

Ishq Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Abdullah

As you were reading Shayari by Ahmad Abdullah

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Abdullah

Similar Moods

As you were reading Ishq Shayari Shayari