aisa hai ki sab khwaab musalsal nahin hote | ऐसा है कि सब ख़्वाब मुसलसल नहीं होते - Ahmad Faraz

aisa hai ki sab khwaab musalsal nahin hote
jo aaj to hote hain magar kal nahin hote

andar ki fazaaon ke karishme bhi ajab hain
meh toot ke barase bhi to baadal nahin hote

kuchh mushkilein aisi hain ki aasaan nahin hoti
kuchh aise muamme hain kabhi hal nahin hote

shaistagi-e-gham ke sabab aankhon ke sehra
namnaak to ho jaate hain jal-thal nahin hote

kaise hi talaatum hon magar qulzum-e-jaan mein
kuchh yaad-jazeera hain ki ojhal nahin hote

ushshaq ke maanind kai ahl-e-hawas bhi
paagal to nazar aate hain paagal nahin hote

sab khwaahishein poori hon faraaz aisa nahin hai
jaise kai ashaar mukammal nahin hote

ऐसा है कि सब ख़्वाब मुसलसल नहीं होते
जो आज तो होते हैं मगर कल नहीं होते

अंदर की फ़ज़ाओं के करिश्मे भी अजब हैं
मेंह टूट के बरसे भी तो बादल नहीं होते

कुछ मुश्किलें ऐसी हैं कि आसाँ नहीं होतीं
कुछ ऐसे मुअम्मे हैं कभी हल नहीं होते

शाइस्तगी-ए-ग़म के सबब आँखों के सहरा
नमनाक तो हो जाते हैं जल-थल नहीं होते

कैसे ही तलातुम हों मगर क़ुल्ज़ुम-ए-जाँ में
कुछ याद-जज़ीरे हैं कि ओझल नहीं होते

उश्शाक़ के मानिंद कई अहल-ए-हवस भी
पागल तो नज़र आते हैं पागल नहीं होते

सब ख़्वाहिशें पूरी हों 'फ़राज़' ऐसा नहीं है
जैसे कई अशआर मुकम्मल नहीं होते

- Ahmad Faraz
3 Likes

Anjam Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Faraz

As you were reading Shayari by Ahmad Faraz

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Faraz

Similar Moods

As you were reading Anjam Shayari Shayari