tujhe hai mashq-e-sitam ka malaal vaise hi | तुझे है मश्क़-ए-सितम का मलाल वैसे ही - Ahmad Faraz

tujhe hai mashq-e-sitam ka malaal vaise hi
hamaari jaan thi jaan par vabaal vaise hi

chala tha zikr zamaane ki bewafaai ka
so aa gaya hai tumhaara khayal vaise hi

ham aa gaye hain tah-e-daam to naseeb apna
wagarana us ne to fenka tha jaal vaise hi

main rokna hi nahin chahta tha vaar us ka
giri nahin mere haathon se dhaal vaise hi

zamaana ham se bhala dushmani to kya rakhta
so kar gaya hai hamein paayemaal vaise hi

mujhe bhi shauq na tha dastaan sunaane ka
faraaz us ne bhi poocha tha haal vaise hi

तुझे है मश्क़-ए-सितम का मलाल वैसे ही
हमारी जान थी जाँ पर वबाल वैसे ही

चला था ज़िक्र ज़माने की बेवफ़ाई का
सो आ गया है तुम्हारा ख़याल वैसे ही

हम आ गए हैं तह-ए-दाम तो नसीब अपना
वगरना उस ने तो फेंका था जाल वैसे ही

मैं रोकना ही नहीं चाहता था वार उस का
गिरी नहीं मिरे हाथों से ढाल वैसे ही

ज़माना हम से भला दुश्मनी तो क्या रखता
सो कर गया है हमें पाएमाल वैसे ही

मुझे भी शौक़ न था दास्ताँ सुनाने का
'फ़राज़' उस ने भी पूछा था हाल वैसे ही

- Ahmad Faraz
4 Likes

Dushmani Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Faraz

As you were reading Shayari by Ahmad Faraz

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Faraz

Similar Moods

As you were reading Dushmani Shayari Shayari