us ka apna hi karishma hai fusoon hai yun hai | उस का अपना ही करिश्मा है फ़ुसूँ है यूँ है - Ahmad Faraz

us ka apna hi karishma hai fusoon hai yun hai
yun to kehne ko sabhi kahte hain yun hai yun hai

jaise koi dar-e-dil par ho sitaada kab se
ek saaya na daroon hai na baroon hai yun hai

tum ne dekhi hi nahin dast-e-wafa ki tasveer
nok-e-har-khaar pe ik qatra-e-khoon hai yun hai

tum mohabbat mein kahaan sood-o-ziyaan le aaye
ishq ka naam khird hai na junoon hai yun hai

ab tum aaye ho meri jaan tamasha karne
ab to dariya mein talaatum na sukoon hai yun hai

naaseha tujh ko khabar kya ki mohabbat kya hai
roz aa jaata hai samjhaata hai yun hai yun hai

shaay'ri taaza zamaanon ki hai me'maar faraaz
ye bhi ik silsila-e-kun-fayaakoon hai yun hai

उस का अपना ही करिश्मा है फ़ुसूँ है यूँ है
यूँ तो कहने को सभी कहते हैं यूँ है यूँ है

जैसे कोई दर-ए-दिल पर हो सितादा कब से
एक साया न दरूँ है न बरूँ है यूँ है

तुम ने देखी ही नहीं दश्त-ए-वफ़ा की तस्वीर
नोक-ए-हर-ख़ार पे इक क़तरा-ए-ख़ूँ है यूँ है

तुम मोहब्बत में कहाँ सूद-ओ-ज़ियाँ ले आए
इश्क़ का नाम ख़िरद है न जुनूँ है यूँ है

अब तुम आए हो मिरी जान तमाशा करने
अब तो दरिया में तलातुम न सुकूँ है यूँ है

नासेहा तुझ को ख़बर क्या कि मोहब्बत क्या है
रोज़ आ जाता है समझाता है यूँ है यूँ है

शाइ'री ताज़ा ज़मानों की है मे'मार 'फ़राज़'
ये भी इक सिलसिला-ए-कुन-फ़यकूँ है यूँ है

- Ahmad Faraz
4 Likes

I love you Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Faraz

As you were reading Shayari by Ahmad Faraz

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Faraz

Similar Moods

As you were reading I love you Shayari Shayari