zakhm ko phool to sar-sar ko saba kahte hai | ज़ख़्म को फूल तो सर-सर को सबा कहते है - Ahmad Faraz

zakhm ko phool to sar-sar ko saba kahte hai
jaane kya daur hai kya log hain kya kahte hain

ab qayamat hai ki jinke liye rook-rook ke chale
ab wahi log humein aabla-pa kahte hain

koi batlaao ki ek umr ka bichhda mehboob
itifaakan kahi mil jaaye to kya kahte hain

yah bhi andaaje-sukhan hai ki jafa ko teri
gamzaa-v-ishwa-v-andaaz-o-adaa kahte hain

jab talak door hai tu teri parsitash kar len
hum jise choo na saken usko khuda kahte hain

kya taajjub hai ki hum ahle-tamannaa. ko faraaz
woh jo mahroom-e-tamanna hain bura kahte hain

ज़ख़्म को फूल तो सर-सर को सबा कहते है
जाने क्या दौर है क्या लोग हैं क्या कहते हैं

अब कयामत है कि जिनके लिए रूक-रूक के चले
अब वही लोग हमें आबला-पा कहते हैं

कोई बतलाओ कि एक उम्र का बिछडा महबूब
इतिफाकन कहीं मिल जाए तो क्या कहते हैं

यह भी अंदाजे-सुखन है कि जफा को तेरी
गमज़ा-व-इशवा-व-अंदाज-ओ-अदा कहते हैं

जब तलक दूर है तू तेरी परसितश कर लें
हम जिसे छू न सकें उसको खुदा कहते हैं

क्या ताज्जुब है कि हम अहले-तमन्ना को ‘फराज़’
वह जो महरूम-ए-तमन्ना हैं बुरा कहते हैं

- Ahmad Faraz
4 Likes

Gulshan Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Faraz

As you were reading Shayari by Ahmad Faraz

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Faraz

Similar Moods

As you were reading Gulshan Shayari Shayari