khoon-e-dil se kisht-e-gham ko seenchta rehta hoon main | ख़ून-ए-दिल से किश्त-ए-ग़म को सींचता रहता हूँ मैं - Ahmad Mushtaq

khoon-e-dil se kisht-e-gham ko seenchta rehta hoon main
khaali kaaghaz par lakeeren kheenchta rehta hoon main

aaj se mujh par mukammal ho gaya deen-e-firaq
haan tasavvur mein bhi ab tujh se juda rehta hoon main

tu dayaar-e-husn hai unchi rahe teri faseel
main hoon darwaaza mohabbat ka khula rehta hoon main

shaam tak kheeche liye firte hain is duniya ke kaam
subh tak farsh-e-nadaamat par pada rehta hoon main

haan kabhi mujh par bhi ho jaata hai mausam ka asar
haan kisi din shaaki-e-aab-o-hawaa rehta hoon main

ahl-e-duniya se ta'alluq qat'a hota hi nahin
bhool jaane par bhi soorat-aashna rehta hoon main

ख़ून-ए-दिल से किश्त-ए-ग़म को सींचता रहता हूँ मैं
ख़ाली काग़ज़ पर लकीरें खींचता रहता हूँ मैं

आज से मुझ पर मुकम्मल हो गया दीन-ए-फ़िराक़
हाँ तसव्वुर में भी अब तुझ से जुदा रहता हूँ मैं

तू दयार-ए-हुस्न है ऊँची रहे तेरी फ़सील
मैं हूँ दरवाज़ा मोहब्बत का, खुला रहता हूँ मैं

शाम तक खींचे लिए फिरते हैं इस दुनिया के काम
सुब्ह तक फ़र्श-ए-नदामत पर पड़ा रहता हूँ मैं

हाँ कभी मुझ पर भी हो जाता है मौसम का असर
हाँ किसी दिन शाकी-ए-आब-ओ-हवा रहता हूँ मैं

अहल-ए-दुनिया से तअ'ल्लुक़ क़त्अ होता ही नहीं
भूल जाने पर भी सूरत-आश्ना रहता हूँ मैं

- Ahmad Mushtaq
0 Likes

I love you Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Mushtaq

As you were reading Shayari by Ahmad Mushtaq

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Mushtaq

Similar Moods

As you were reading I love you Shayari Shayari