ehsaas mein phool khil rahe hain | एहसास में फूल खिल रहे हैं - Ahmad Nadeem Qasmi

ehsaas mein phool khil rahe hain
patjhad ke ajeeb silsile hain

kuchh itni shadeed teergi hai
aankhon mein sitaare tairte hain

dekhen to hawa jamee hui hai
sochen to darakht jhoomte hain

suqraat ne zahar pee liya tha
ham ne jeene ke dukh sahe hain

ham tujh se bigad ke jab bhi uthe
phir tere huzoor aa gaye hain

ham aks hain ek doosre ka
chehre ye nahin hain aaine hain

lamhon ka ghubaar chha raha hai
yaadon ke charaagh jal rahe hain

suraj ne ghane sanobaron mein
jaale se shua'on ke bune hain

yaksaan hain firaq-o-wasl dono
ye marhale ek se karde hain

pa kar bhi to neend ud gai thi
kho kar bhi to rat-jage mile hain

jo din tiri yaad mein kate the
maazi ke khandar bane khade hain

jab tera jamaal dhoondte the
ab tera khayal dhoondte hain

ham dil ke gudaaz se hain majboor
jab khush bhi hue to roye hain

ham zinda hain ai firaq ki raat
pyaari tire baal kyun khule hain

एहसास में फूल खिल रहे हैं
पतझड़ के अजीब सिलसिले हैं

कुछ इतनी शदीद तीरगी है
आँखों में सितारे तैरते हैं

देखें तो हवा जमी हुई है
सोचें तो दरख़्त झूमते हैं

सुक़रात ने ज़हर पी लिया था
हम ने जीने के दुख सहे हैं

हम तुझ से बिगड़ के जब भी उठे
फिर तेरे हुज़ूर आ गए हैं

हम अक्स हैं एक दूसरे का
चेहरे ये नहीं हैं आइने हैं

लम्हों का ग़ुबार छा रहा है
यादों के चराग़ जल रहे हैं

सूरज ने घने सनोबरों में
जाले से शुआ'ओं के बुने हैं

यकसाँ हैं फ़िराक़-ओ-वस्ल दोनों
ये मरहले एक से कड़े हैं

पा कर भी तो नींद उड़ गई थी
खो कर भी तो रत-जगे मिले हैं

जो दिन तिरी याद में कटे थे
माज़ी के खंडर बने खड़े हैं

जब तेरा जमाल ढूँडते थे
अब तेरा ख़याल ढूँडते हैं

हम दिल के गुदाज़ से हैं मजबूर
जब ख़ुश भी हुए तो रोए हैं

हम ज़िंदा हैं ऐ फ़िराक़ की रात
प्यारी तिरे बाल क्यूँ खुले हैं

- Ahmad Nadeem Qasmi
0 Likes

Jahar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Nadeem Qasmi

As you were reading Shayari by Ahmad Nadeem Qasmi

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Nadeem Qasmi

Similar Moods

As you were reading Jahar Shayari Shayari