ye sust hai to phir kya vo tez hai to phir kya | ये सुस्त है तो फिर क्या वो तेज़ है तो फिर क्या - Akbar Allahabadi

ye sust hai to phir kya vo tez hai to phir kya
native jo hai to phir kya angrez hai to phir kya

rahna kisi se dab kar hai amn ko zaroori
phir koi firqa haibat-angez hai to phir kya

ranj o khushi ki sab mein taqseem hai munaasib
baabu jo hai to phir kya changez hai to phir kya

har rang mein hain paate bande khuda ke rozi
hai painter to phir kya rangrez hai to phir kya

jaisi jise zaroorat waisi hi us ki cheezen
yaa takht hai to phir kya waan mez hai to phir kya

mafaqood hain ab is ke sunne samajhne waale
mera sukhun naseehat-aamez hai to phir kya

ये सुस्त है तो फिर क्या वो तेज़ है तो फिर क्या
नेटिव जो है तो फिर क्या अंग्रेज़ है तो फिर क्या

रहना किसी से दब कर है अम्न को ज़रूरी
फिर कोई फ़िरक़ा हैबत-अंगेज़ है तो फिर क्या

रंज ओ ख़ुशी की सब में तक़्सीम है मुनासिब
बाबू जो है तो फिर क्या चंगेज़ है तो फिर क्या

हर रंग में हैं पाते बंदे ख़ुदा के रोज़ी
है पेंटर तो फिर क्या रंगरेज़ है तो फिर क्या

जैसी जिसे ज़रूरत वैसी ही उस की चीज़ें
याँ तख़्त है तो फिर क्या वाँ मेज़ है तो फिर क्या

मफ़क़ूद हैं अब इस के सुनने समझने वाले
मेरा सुख़न नसीहत-आमेज़ है तो फिर क्या

- Akbar Allahabadi
1 Like

Diversity Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akbar Allahabadi

As you were reading Shayari by Akbar Allahabadi

Similar Writers

our suggestion based on Akbar Allahabadi

Similar Moods

As you were reading Diversity Shayari Shayari