zid hai unhen poora mera armaan na karenge | ज़िद है उन्हें पूरा मिरा अरमाँ न करेंगे - Akbar Allahabadi

zid hai unhen poora mera armaan na karenge
munh se jo nahin nikli hai ab haan na karenge

kyun zulf ka bosa mujhe lene nahin dete
kahte hain ki wallaah pareshaan na karenge

hai zehan mein ik baat tumhaare mutalliq
khilwat mein jo poochoge to pinhaan na karenge

waiz to banaate hain musalmaan ko kaafir
afsos ye kaafir ko musalmaan na karenge

kyun shukr-guzaari ka mujhe shauq hai itna
sunta hoon vo mujh par koi ehsaan na karenge

deewaana na samjhe hamein vo samjhe sharaabi
ab chaak kabhi jeb o garebaan na karenge

vo jaante hain gair mere ghar mein hai mehmaan
aayenge to mujh par koi ehsaan na karenge

ज़िद है उन्हें पूरा मिरा अरमाँ न करेंगे
मुँह से जो नहीं निकली है अब हाँ न करेंगे

क्यूँ ज़ुल्फ़ का बोसा मुझे लेने नहीं देते
कहते हैं कि वल्लाह परेशाँ न करेंगे

है ज़ेहन में इक बात तुम्हारे मुतअल्लिक़
ख़ल्वत में जो पूछोगे तो पिन्हाँ न करेंगे

वाइज़ तो बनाते हैं मुसलमान को काफ़िर
अफ़्सोस ये काफ़िर को मुसलमाँ न करेंगे

क्यूँ शुक्र-गुज़ारी का मुझे शौक़ है इतना
सुनता हूँ वो मुझ पर कोई एहसाँ न करेंगे

दीवाना न समझे हमें वो समझे शराबी
अब चाक कभी जेब ओ गरेबाँ न करेंगे

वो जानते हैं ग़ैर मिरे घर में है मेहमाँ
आएँगे तो मुझ पर कोई एहसाँ न करेंगे

- Akbar Allahabadi
2 Likes

Aah Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akbar Allahabadi

As you were reading Shayari by Akbar Allahabadi

Similar Writers

our suggestion based on Akbar Allahabadi

Similar Moods

As you were reading Aah Shayari Shayari