falsafi ko bahs ke andar khuda milta nahin | फ़लसफ़ी को बहस के अंदर ख़ुदा मिलता नहीं - Akbar Allahabadi

falsafi ko bahs ke andar khuda milta nahin
dor ko suljhaa raha hai aur sira milta nahin

maarifat khaaliq ki aalam mein bahut dushwaar hai
shehr-e-tan mein jab ki khud apna pata milta nahin

ghaafiloon ke lutf ko kaafi hai duniyaavi khushi
aqiloon ko be-gham-e-uqba maza milta nahin

kashti-e-dil ki ilaahi bahr-e-hasti mein ho khair
nakhuda milte hain lekin ba-khuda milta nahin

ghaafiloon ko kya sunaau daastaan-e-ishq-e-yaar
sunne waale milte hain dard-aashna milta nahin

zindagaani ka maza milta tha jin ki bazm mein
un ki qabron ka bhi ab mujh ko pata milta nahin

sirf zaahir ho gaya sarmaaya-e-zeb-o-safa
kya ta'ajjub hai jo baatin ba-safa milta nahin

pukhta tabon par hawadis ka nahin hota asar
kohsaaron mein nishaan-e-naqsh-e-paa milta nahin

shaikh-saahib brahman se laakh barten dosti
be-bhajan gaaye to mandir se tika milta nahin

jis pe dil aaya hai vo sheerin-ada milta nahin
zindagi hai talkh jeene ka maza milta nahin

log kahte hain ki bad-naami se bachna chahiye
kah do be us ke jawaani ka maza milta nahin

ahl-e-zaahir jis qadar chahein karein bahs-o-jidaal
main ye samjha hoon khudi mein to khuda milta nahin

chal base vo din ki yaaron se bhari thi anjuman
haaye afsos aaj soorat-aashna milta nahin

manzil-e-ishq-o-tawakkul manzil-e-ejaaz hai
shah sab baste hain yaa koi gada milta nahin

baar takleefon ka mujh par baar-e-ehsaan se hai sahal
shukr ki ja hai agar haajat-rava milta nahin

chaandni raatein bahaar apni dikhaati hain to kya
be tire mujh ko to lutf ai mahlaqa milta nahin

maani-e-dil ka kare izhaar akbar kis tarah
lafz mauzoon bahr-e-kashf-e-muddaa milta nahin

फ़लसफ़ी को बहस के अंदर ख़ुदा मिलता नहीं
डोर को सुलझा रहा है और सिरा मिलता नहीं

मारिफ़त ख़ालिक़ की आलम में बहुत दुश्वार है
शहर-ए-तन में जब कि ख़ुद अपना पता मिलता नहीं

ग़ाफ़िलों के लुत्फ़ को काफ़ी है दुनियावी ख़ुशी
आक़िलों को बे-ग़म-ए-उक़्बा मज़ा मिलता नहीं

कश्ती-ए-दिल की इलाही बहर-ए-हस्ती में हो ख़ैर
नाख़ुदा मिलते हैं लेकिन बा-ख़ुदा मिलता नहीं

ग़ाफ़िलों को क्या सुनाऊँ दास्तान-ए-इश्क़-ए-यार
सुनने वाले मिलते हैं दर्द-आश्ना मिलता नहीं

ज़िंदगानी का मज़ा मिलता था जिन की बज़्म में
उन की क़ब्रों का भी अब मुझ को पता मिलता नहीं

सिर्फ़ ज़ाहिर हो गया सरमाया-ए-ज़ेब-ओ-सफ़ा
क्या तअज्जुब है जो बातिन बा-सफ़ा मिलता नहीं

पुख़्ता तबओं पर हवादिस का नहीं होता असर
कोहसारों में निशान-ए-नक़्श-ए-पा मिलता नहीं

शैख़-साहिब बरहमन से लाख बरतें दोस्ती
बे-भजन गाए तो मंदिर से टिका मिलता नहीं

जिस पे दिल आया है वो शीरीं-अदा मिलता नहीं
ज़िंदगी है तल्ख़ जीने का मज़ा मिलता नहीं

लोग कहते हैं कि बद-नामी से बचना चाहिए
कह दो बे उस के जवानी का मज़ा मिलता नहीं

अहल-ए-ज़ाहिर जिस क़दर चाहें करें बहस-ओ-जिदाल
मैं ये समझा हूँ ख़ुदी में तो ख़ुदा मिलता नहीं

चल बसे वो दिन कि यारों से भरी थी अंजुमन
हाए अफ़्सोस आज सूरत-आश्ना मिलता नहीं

मंज़िल-ए-इशक़-ओ-तवक्कुल मंज़िल-ए-एज़ाज़ है
शाह सब बस्ते हैं याँ कोई गदा मिलता नहीं

बार तकलीफों का मुझ पर बार-ए-एहसाँ से है सहल
शुक्र की जा है अगर हाजत-रवा मिलता नहीं

चाँदनी रातें बहार अपनी दिखाती हैं तो क्या
बे तिरे मुझ को तो लुत्फ़ ऐ मह-लक़ा मिलता नहीं

मानी-ए-दिल का करे इज़हार 'अकबर' किस तरह
लफ़्ज़ मौज़ूँ बहर-ए-कश्फ़-ए-मुद्दआ मिलता नहीं

- Akbar Allahabadi
3 Likes

Bekhudi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akbar Allahabadi

As you were reading Shayari by Akbar Allahabadi

Similar Writers

our suggestion based on Akbar Allahabadi

Similar Moods

As you were reading Bekhudi Shayari Shayari