ham yun hi nahin shah ke azaadaar hue hain | हम यूँ ही नहीं शह के अज़ादार हुए हैं - Ali Zaryoun

ham yun hi nahin shah ke azaadaar hue hain
nasli hain to asli ke parastaar hue hain

tohmat to laga dete ho bekaari ki hampar
poocho to sahi kislie bekar hue hain

sab aake mujhe kahte hain murshid koi chaara
jis jis ko dar ae yaar se inkaar hue hain

ye vo hain jinhen maine sukhun karna sikhaaya
ye lehje mere saamne talwaar hue hain

milne to akela hi use jaana hai zaryoon
ye dost magar kislie taiyaar hue hain

हम यूँ ही नहीं शह के अज़ादार हुए हैं
नस्ली हैं तो अस्ली के परस़्तार हुए हैं

तोहमत तो लगा देते हो बेकारी की हमपर
पूछो तो सही किसलिए बेकार हुए हैं

सब आके मुझे कहते हैं मुर्शिद कोई चारा
जिस जिस को दर ए यार से इन्कार हुए हैं

ये वो हैं जिन्हें मैंने सुख़न करना सिखाया
ये लहजे मेरे सामने तलवार हुए हैं

मिलने तो अकेले ही उसे जाना है "ज़रयून"
ये दोस्त मगर किसलिए तैयार हुए हैं?

- Ali Zaryoun
6 Likes

Terrorism Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ali Zaryoun

As you were reading Shayari by Ali Zaryoun

Similar Writers

our suggestion based on Ali Zaryoun

Similar Moods

As you were reading Terrorism Shayari Shayari