paraai neend mein sone ka tajurba kar ke | पराई नींद में सोने का तजरबा कर के - Ali Zaryoun

paraai neend mein sone ka tajurba kar ke
main khush nahin hoon tujhe khud mein mubtala kar ke

usooli taur pe mar jaana chahiye tha magar
mujhe sukoon mila hai tujhe juda kar ke

ye kyun kaha ki tujhe mujh se pyaar ho jaaye
tadap utha hoon tire haq mein bad-dua kar ke

main chahta hoon khareedaar par ye khul jaaye
naya nahin hoon rakha hoon yahan naya kar ke

main jootiyon mein bhi baitha hoon poore maan ke saath
kisi ne mujh ko bulaaya hai iltijaa kar ke

bashar samajh ke kiya tha na yun nazar-andaaz
le main bhi chhod raha hoon tujhe khuda kar ke

to phir vo rote hue minnaten bhi maante hain
jo intiha nahin karte hain ibtida kar ke

badal chuka hai mera lams nafsiyaat us ki
ki rakh diya hai use main ne an-chhuaa kar ke

manaa bhi loonga gale bhi lagaaunga main ali
abhi to dekh raha hoon use khafa kar ke

पराई नींद में सोने का तजरबा कर के
मैं ख़ुश नहीं हूँ तुझे ख़ुद में मुब्तला कर के

उसूली तौर पे मर जाना चाहिए था मगर
मुझे सुकून मिला है तुझे जुदा कर के

ये क्यूँ कहा कि तुझे मुझ से प्यार हो जाए
तड़प उठा हूँ तिरे हक़ में बद-दुआ' कर के

मैं चाहता हूँ ख़रीदार पर ये खुल जाए
नया नहीं हूँ रखा हूँ यहाँ नया कर के

मैं जूतियों में भी बैठा हूँ पूरे मान के साथ
किसी ने मुझ को बुलाया है इल्तिजा कर के

बशर समझ के किया था ना यूँ नज़र-अंदाज़
ले मैं भी छोड़ रहा हूँ तुझे ख़ुदा कर के

तो फिर वो रोते हुए मिन्नतें भी मानते हैं
जो इंतिहा नहीं करते हैं इब्तिदा कर के

बदल चुका है मिरा लम्स नफ़सियात उस की
कि रख दिया है उसे मैं ने अन-छुआ कर के

मना भी लूँगा गले भी लगाऊँगा मैं 'अली'
अभी तो देख रहा हूँ उसे ख़फ़ा कर के

- Ali Zaryoun
12 Likes

Gussa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ali Zaryoun

As you were reading Shayari by Ali Zaryoun

Similar Writers

our suggestion based on Ali Zaryoun

Similar Moods

As you were reading Gussa Shayari Shayari