wahi meri kam-naseebi wahi teri be-niyaazi | वही मेरी कम-नसीबी वही तेरी बे-नियाज़ी - Allama Iqbal

wahi meri kam-naseebi wahi teri be-niyaazi
mere kaam kuchh na aaya ye kamaal-e-nai-navaazi

main kahaan hoon tu kahaan hai ye makaan ki la-makaan hai
ye jahaan mera jahaan hai ki tiri karishma-saazi

isee kashmakash mein guzriin meri zindagi ki raatein
kabhi soz-o-saaz-e-'roomi kabhi pech-o-tab-e-'raazi

vo fareb-khurda shaheen ki paala ho kargasoon mein
use kya khabar ki kya hai rah-o-rasm-e-shaahbaazi

na zabaan koi ghazal ki na zabaan se ba-khabar main
koi dil-kusha sada ho ajmi ho ya ki taazi

nahin faqr o saltanat mein koi imtiyaaz aisa
ye sipah ki tegh-baazi vo nigaah ki tegh-baazi

koi kaarwaan se toota koi bad-gumaan haram se
ki ameer-e-kaarwaan mein nahin khoo-e-dil-navaazi

वही मेरी कम-नसीबी वही तेरी बे-नियाज़ी
मिरे काम कुछ न आया ये कमाल-ए-नै-नवाज़ी

मैं कहाँ हूँ तू कहाँ है ये मकाँ कि ला-मकाँ है
ये जहाँ मिरा जहाँ है कि तिरी करिश्मा-साज़ी

इसी कश्मकश में गुज़रीं मिरी ज़िंदगी की रातें
कभी सोज़-ओ-साज़-ए-'रूमी' कभी पेच-ओ-ताब-ए-'राज़ी'

वो फ़रेब-ख़ुर्दा शाहीं कि पला हो करगसों में
उसे क्या ख़बर कि क्या है रह-ओ-रस्म-ए-शाहबाज़ी

न ज़बाँ कोई ग़ज़ल की न ज़बाँ से बा-ख़बर मैं
कोई दिल-कुशा सदा हो अजमी हो या कि ताज़ी

नहीं फ़क़्र ओ सल्तनत में कोई इम्तियाज़ ऐसा
ये सिपह की तेग़-बाज़ी वो निगह की तेग़-बाज़ी

कोई कारवाँ से टूटा कोई बद-गुमाँ हरम से
कि अमीर-ए-कारवाँ में नहीं ख़ू-ए-दिल-नवाज़ी

- Allama Iqbal
1 Like

Nazar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Allama Iqbal

As you were reading Shayari by Allama Iqbal

Similar Writers

our suggestion based on Allama Iqbal

Similar Moods

As you were reading Nazar Shayari Shayari