dil ko dard-aashna kiya tu ne | दिल को दर्द-आश्ना किया तू ने - Altaf Hussain Hali

dil ko dard-aashna kiya tu ne
dard-e-dil ko dava kiya tu ne

tab-e-insaan ko di sirisht-e-wafa
khaak ko keemiya kiya tu ne

vasl-e-jaanaan muhaal thehraaya
qatl-e-aashiq rawa kiya tu ne

tha na juz gham bisaat-e-aashiq mein
gham ko rahat-fazaa kiya tu ne

jaan thi ik vabaal furqat mein
shauq ko jaan-guzaa kiya tu ne

thi mohabbat mein nang minnat-e-ghair
jazb-e-dil ko rasaa kiya tu ne

raah zaahid ko jab kahi na mili
dar-e-may-khaana vaa kiya tu ne

qat'a hone hi jab laga paivand
gair ko aashna kiya tu ne

thi jahaan kaarwaan ko deni raah
ishq ko rehnuma kiya tu ne

naav bhar kar jahaan dubooni thi
aql ko nakhuda kiya tu ne

badh gai jab pidar ko mehr-e-pisar
us ko us se juda kiya tu ne

jab hua mulk o maal rahzan-e-hosh
baadshah ko gada kiya tu ne

jab mili kaam-e-jaan ko lazzat-e-dard
dard ko be-dava kiya tu ne

jab diya raah-rau ko zauq-e-talab
sai ko na-rasa kiya tu ne

pardaa-e-chashm the hijaab bahut
husn ko khud-numa kiya tu ne

ishq ko taab-e-intizaar na thi
ghurfa ik dil mein vaa kiya tu ne

haram aabaad aur dair kharab
jo kiya sab baja kiya tu ne

sakht afsurda taba thi ahbaab
ham ko jaadu nava kiya tu ne

phir jo dekha to kuchh na tha ya rab
kaun pooche ki kya kiya tu ne

haali utha hila ke mehfil ko
aakhir apna kaha kiya tu ne

दिल को दर्द-आश्ना किया तू ने
दर्द-ए-दिल को दवा किया तू ने

तब-ए-इंसाँ को दी सिरिश्त-ए-वफ़ा
ख़ाक को कीमिया किया तू ने

वस्ल-ए-जानाँ मुहाल ठहराया
क़त्ल-ए-आशिक़ रवा किया तू ने

था न जुज़ ग़म बिसात-ए-आशिक़ में
ग़म को राहत-फ़ज़ा किया तू ने

जान थी इक वबाल फ़ुर्क़त में
शौक़ को जाँ-गुज़ा किया तू ने

थी मोहब्बत में नंग मिन्नत-ए-ग़ैर
जज़्ब-ए-दिल को रसा किया तू ने

राह ज़ाहिद को जब कहीं न मिली
दर-ए-मय-ख़ाना वा किया तू ने

क़त्अ होने ही जब लगा पैवंद
ग़ैर को आश्ना किया तू ने

थी जहाँ कारवाँ को देनी राह
इश्क़ को रहनुमा किया तू ने

नाव भर कर जहाँ डुबोनी थी
अक़्ल को नाख़ुदा किया तू ने

बढ़ गई जब पिदर को मेहर-ए-पिसर
उस को उस से जुदा किया तू ने

जब हुआ मुल्क ओ माल रहज़न-ए-होश
बादशह को गदा किया तू ने

जब मिली काम-ए-जाँ को लज़्ज़त-ए-दर्द
दर्द को बे-दवा किया तू ने

जब दिया राह-रौ को ज़ौक़-ए-तलब
सई को ना-रसा किया तू ने

पर्दा-ए-चश्म थे हिजाब बहुत
हुस्न को ख़ुद-नुमा किया तू ने

इश्क़ को ताब-ए-इंतिज़ार न थी
ग़ुर्फ़ा इक दिल में वा किया तू ने

हरम आबाद और दैर ख़राब
जो किया सब बजा किया तू ने

सख़्त अफ़्सुर्दा तब्अ' थी अहबाब
हम को जादू नवा किया तू ने

फिर जो देखा तो कुछ न था या रब
कौन पूछे कि क्या किया तू ने

'हाली' उट्ठा हिला के महफ़िल को
आख़िर अपना कहा किया तू ने

- Altaf Hussain Hali
0 Likes

Shama Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Altaf Hussain Hali

As you were reading Shayari by Altaf Hussain Hali

Similar Writers

our suggestion based on Altaf Hussain Hali

Similar Moods

As you were reading Shama Shayari Shayari