khaana-e-zanjeer ka paaband rehta hoon sada | ख़ाना-ए-ज़ंजीर का पाबंद रहता हूँ सदा - Amanat Lakhnavi

khaana-e-zanjeer ka paaband rehta hoon sada
ghar abas ho poochte mujh khaanmaan-barbaad ka

ishq-e-qadd-e-yaar mein kya naa-tawaani ka hai zor
ghash mujhe aaya jo saaya pad gaya shamshaad ka

khud-faramoshi tumhaari gair ke kaam aa gai
yaad rakhiyega zara bhule se kehna yaad ka

khat likha karte hain ab vo yak qalam mujh ko shikast
pech se dil todate hain aashiq-e-naashaad ka

ishq-e-pechaan ka chaman mein jaal faila dekh kar
bulbulon ko sarv par dhoka hua sayyaad ka

qamat-e-jaanaan se karta hai akad kar ham-sari
hausla dekhe to koi sarv-e-be-buniyaad ka

be-zabaani mein amaanat ki vo hain gul-reziyaan
naatika ho band ai dil bulbul-e-naashaad ka

ख़ाना-ए-ज़ंजीर का पाबंद रहता हूँ सदा
घर अबस हो पूछते मुझ ख़ानमाँ-बर्बाद का

इश्क़-ए-क़द्द-ए-यार में क्या ना-तवानी का है ज़ोर
ग़श मुझे आया जो साया पड़ गया शमशाद का

ख़ुद-फ़रामोशी तुम्हारी ग़ैर के काम आ गई
याद रखिएगा ज़रा भूले से कहना याद का

ख़त लिखा करते हैं अब वो यक क़लम मुझ को शिकस्त
पेच से दिल तोड़ते हैं आशिक़-ए-नाशाद का

इशक़-ए-पेचाँ का चमन में जाल फैला देख कर
बुलबुलों को सर्व पर धोका हुआ सय्याद का

क़ामत-ए-जानाँ से करता है अकड़ कर हम-सरी
हौसला देखे तो कोई सर्व-ए-बे-बुनियाद का

बे-ज़बानी में 'अमानत' की वो हैं गुल-रेज़ियाँ
नातिक़ा हो बंद ऐ दिल बुलबुल-ए-नाशाद का

- Amanat Lakhnavi
0 Likes

Motivational Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Amanat Lakhnavi

As you were reading Shayari by Amanat Lakhnavi

Similar Writers

our suggestion based on Amanat Lakhnavi

Similar Moods

As you were reading Motivational Shayari Shayari