tumhaara jo sahaara ho gaya hai | तुम्हारा जो सहारा हो गया है - Ambreen Haseeb Ambar

tumhaara jo sahaara ho gaya hai
bhanwar bhi ab kinaara ho gaya hai

mohabbat mein bhala kya aur hota
mera ye dil tumhaara ho gaya hai

tumhaari yaad se hai vo charaaghaan
ki aansu bhi sitaara ho gaya hai

ajab hai mausam-e-be-ikhtiyaari
ki jab se vo hamaara ho gaya

ik an-jaani khushi ke aasre mein
humein har gham gawara ho gaya hai

humein kab raas aa sakti thi duniya
ghaneemat hai guzaara ho gaya hai

jinhen rehta tha zo'm-e-dil-faroshi
unhen ab ke khasaara ho gaya hai

तुम्हारा जो सहारा हो गया है
भँवर भी अब किनारा हो गया है

मोहब्बत में भला क्या और होता
मिरा ये दिल तुम्हारा हो गया है

तुम्हारी याद से है वो चराग़ाँ
की आँसू भी सितारा हो गया है

अजब है मौसम-ए-बे-इख़्तियारी
की जब से वो हमारा हो गया

इक अन-जानी ख़ुशी के आसरे में
हमें हर ग़म गवारा हो गया है

हमें कब रास आ सकती थी दुनिया
ग़नीमत है गुज़ारा हो गया है

जिन्हें रहता था ज़ो'म-ए-दिल-फ़रोशी
उन्हें अब के ख़सारा हो गया है

- Ambreen Haseeb Ambar
0 Likes

Love Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ambreen Haseeb Ambar

As you were reading Shayari by Ambreen Haseeb Ambar

Similar Writers

our suggestion based on Ambreen Haseeb Ambar

Similar Moods

As you were reading Love Shayari Shayari