ameek chhed ghazal gham ki intiha kab hai | अमीक़' छेड़ ग़ज़ल ग़म की इंतिहा कब है - Ameeq Hanafi

ameek chhed ghazal gham ki intiha kab hai
ye maalve ki junoon-khez chaudahveen shab hai

mujhe shikaayat-e-talkhi-e-zahar-e-gham kab hai
mere labon pe abhi kaif-e-shakkar-e-lab hai

lakeer khinchti chali ja rahi hai ta-ba-jigar
farogh-e-may hai ki mashq-e-jaraahat-e-shab hai

ye mahviyat hai ki ro'b-e-jamaal hai taari
khilaaf-e-rasm-e-junoon dil bahut muaddab hai

kabhi haram mein hai kaafir to dair mein mumin
na jaane kya dil-e-deewaana tera mazhab hai

bahut muhaal tha warna ki dil fareb mein aaye
kisi ke gham se gham-e-kaayenaat ki chhab hai

chaman mein phool khilaati phire bahaar to kya
kisi ke band-e-qaba tootne lagen tab hai

अमीक़' छेड़ ग़ज़ल ग़म की इंतिहा कब है
ये मालवे की जुनूँ-ख़ेज़ चौदहवीं शब है

मुझे शिकायत-ए-तल्ख़ी-ए-ज़हर-ए-ग़म कब है
मिरे लबों पे अभी कैफ़-ए-शक्कर-ए-लब है

लकीर खिंचती चली जा रही है ता-बा-जिगर
फ़रोग़-ए-मय है कि मश्क़-ए-जराहत-ए-शब है

ये महवियत है कि रो'ब-ए-जमाल है तारी
ख़िलाफ़-ए-रस्म-ए-जुनूँ दिल बहुत मुअद्दब है

कभी हरम में है काफ़िर तो दैर में मोमिन
न जाने क्या दिल-ए-दीवाना तेरा मज़हब है

बहुत मुहाल था वर्ना कि दिल फ़रेब में आए
किसी के ग़म से ग़म-ए-काएनात की छब है

चमन में फूल खिलाती फिरे बहार तो क्या
किसी के बंद-ए-क़बा टूटने लगें तब है

- Ameeq Hanafi
1 Like

Aawargi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameeq Hanafi

As you were reading Shayari by Ameeq Hanafi

Similar Writers

our suggestion based on Ameeq Hanafi

Similar Moods

As you were reading Aawargi Shayari Shayari