mazid ik baar par baar-e-giraan rakha gaya hai | मज़ीद इक बार पर बार-ए-गिराँ रक्खा गया है - Ameer Imam

mazid ik baar par baar-e-giraan rakha gaya hai
zameen jo tere upar aasmaan rakha gaya hai

kabhi tu cheekh kar awaaz de to jaan jaaun
mere zindaan mein tujh ko kahaan rakha gaya hai

meri neendon mein rahti hai sada tishna-dahaani
mere khwaabon mein ik dariya ravaan rakha gaya hai

hawa ke saath phoolon se nikalne ki saza mein
bhatkati khushbuon ko be-amaan rakha gaya hai

magar ye dil bahalta hi nahin go is ke aage
tumhaare b'ad ye saara jahaan rakha gaya hai

मज़ीद इक बार पर बार-ए-गिराँ रक्खा गया है
ज़मीं जो तेरे उपर आसमाँ रक्खा गया है

कभी तू चीख़ कर आवाज़ दे तो जान जाऊँ
मिरे ज़िंदान में तुझ को कहाँ रक्खा गया है

मिरी नींदों में रहती है सदा तिश्ना-दहानी
मिरे ख़्वाबों में इक दरिया रवाँ रक्खा गया है

हवा के साथ फूलों से निकलने की सज़ा में
भटकती ख़ुशबुओं को बे-अमाँ रक्खा गया है

मगर ये दिल बहलता ही नहीं गो इस के आगे
तुम्हारे ब'अद ये सारा जहाँ रक्खा गया है

- Ameer Imam
1 Like

Sazaa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Imam

As you were reading Shayari by Ameer Imam

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Imam

Similar Moods

As you were reading Sazaa Shayari Shayari