hatao aaina ummeed-waar ham bhi hain | हटाओ आइना उम्मीद-वार हम भी हैं - Ameer Minai

hatao aaina ummeed-waar ham bhi hain
tumhaare dekhne waalon mein yaar ham bhi hain

tadap ke rooh ye kahti hai hijr-e-jaanan mein
ki tere saath dil-e-be-qaraar ham bhi hain

rahe dimaagh agar aasmaan pe door nahin
ki tere kooche mein mast-e-ghubaar ham bhi hain

kaho ki nakhl-e-chaman ham se sar-kashi na karein
unhin ki tarah se baag-o-bahaar ham bhi hain

hamaare aage zara ho samajh ke zamzama-sanj
ki ek naghma-saraa ai hazaar ham bhi hain

kahaan tak aaine mein dekh-bhaal idhar dekho
ki ik nigaah ke ummeed-waar ham bhi hain

sharaab munh se lagaate nahin hain ai zaahid
firaq-e-yaar mein parhez-gaar ham bhi hain

hamaara naam bhi likh lo jo hai qalam jaari
qadeem aap ke khidmat-guzaar ham bhi hain

huma hain gird meri haddiyon ke aath pahar
sag aa ke kahte hain ummeed-waar ham bhi hain

jo ladkhada ke gire tu qadam pe saaqi ke
ameer mast nahin hoshyaar ham bhi hain

हटाओ आइना उम्मीद-वार हम भी हैं
तुम्हारे देखने वालों में यार हम भी हैं

तड़प के रूह ये कहती है हिज्र-ए-जानाँ में
कि तेरे साथ दिल-ए-बे-क़रार हम भी हैं

रहे दिमाग़ अगर आसमाँ पे दूर नहीं
कि तेरे कूचे में मस्त-ए-ग़ुबार हम भी हैं

कहो कि नख़्ल-ए-चमन हम से सर-कशी न करें
उन्हीं की तरह से बाग़-ओ-बहार हम भी हैं

हमारे आगे ज़रा हो समझ के ज़मज़मा-संज
कि एक नग़्मा-सरा ऐ हज़ार हम भी हैं

कहाँ तक आइने में देख-भाल इधर देखो
कि इक निगाह के उम्मीद-वार हम भी हैं

शराब मुँह से लगाते नहीं हैं ऐ ज़ाहिद
फ़िराक़-ए-यार में परहेज़-गार हम भी हैं

हमारा नाम भी लिख लो जो है क़लम जारी
क़दीम आप के ख़िदमत-गुज़ार हम भी हैं

हुमा हैं गिर्द मिरी हड्डियों के आठ पहर
सग आ के कहते हैं उम्मीद-वार हम भी हैं

जो लड़खड़ा के गिरे तू क़दम पे साक़ी के
'अमीर' मस्त नहीं होश्यार हम भी हैं

- Ameer Minai
1 Like

Friendship Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Minai

As you were reading Shayari by Ameer Minai

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Minai

Similar Moods

As you were reading Friendship Shayari Shayari