jab se baandha hai tasavvur us rukh-e-pur-noor ka | जब से बाँधा है तसव्वुर उस रुख़-ए-पुर-नूर का - Ameer Minai

jab se baandha hai tasavvur us rukh-e-pur-noor ka
saare ghar mein noor faila hai charaagh-e-toor ka

bakht-e-waazoon se jale kyun dil na mujh mehrur ka
marham-e-kaafoor se munh aa gaya naasoor ka

is qadar mushtaaq hoon zaahid khuda ke noor ka
but bhi banvaaya kabhi main ne to sang-e-toor ka

tujh ko laaye ghar mein jannat ko jalaya rashk se
hum-baghal tujh se hue pahluu dabaya hoor ka

goer-e-kaafir kis liye hai teera-o-taar is qadar
pad gaya saaya magar meri shab-e-deejoor ka

husn-e-yoosuf aur tere husn mein itna hai farq
chot ye nazdeek ki hai vaar tha vo daur ka

qasr-e-tan bigda kisi ka gorkun ki ban padi
ghar kisi ka gir pada ghar bin gaya mazdoor ka

chehra-e-jaanaan se sharma kar chhupaaya khuld mein
khaama-e-taqdeer ne kheecha jo naqsha hoor ka

haajat-e-mushshaata kya rukhsaar-e-raushan ke liye
dekh lo gul kaatta hai kaun sham-e-toor ka

zulf-o-roo-e-yaar se nairang-e-qudrat hai ayaan
mehr ke panje mein hai daaman shab-e-deejoor ka

khaaksaari kar jo ho manzoor aankhon mein jagah
khaak ho kar surma bin jaata hai patthar taur ka

ghaafiloon ke kaan kab khulte hain san kar shor-e-hashr
sone waalon ko jaga saka nahin ghul door ka

pooch lena sab watan ka haal ai ahl-e-adam
baith lene do zara aata hoon utha daur ka

izz karte hain adoo-e-jaan se bhi khaasaan-e-haq
jhuk gaya sar aage paa-e-daar par mansoor ka

maut kya aayi tap-e-furqat se sehat ho gai
dam nikalne se badan thanda hua ranjoor ka

jaate hain may-khaana-e-aalam se ham soo-e-adam
kah do az-khud-raftagi se hai iraada door ka

mooziyon ko haadson se dehr ke kya khauf hai
baarish-e-baaraan se ghar girta nahin zanboor ka

chashm-e-saaghar be-sabab har dam lahu roti nahin
mugbachon se saaqiya dil phat gaya angoor ka

jaate hain may-khaana-e-aalam se ham soo-e-adam
kah do az-khud-raftagi se hai iraada door ka

ki nazar jis par kudoorat se raha khaamosh vo
hai asar gard-e-nigaah-e-yaar mein sindoor ka

jalwa-e-maashooq har ja hai baseerat ho agar
kirmak-e-shab-taab mein aalam hai sham-e-toor ka

mar ke yaaraan-e-adam ke paas pahunchunga ameer
chalte chalte jaan jaayegi safar hai door ka

जब से बाँधा है तसव्वुर उस रुख़-ए-पुर-नूर का
सारे घर में नूर फैला है चराग़-ए-तूर का

बख़्त-ए-वाज़ूँ से जले क्यूँ दिल न मुझ महरूर का
मर्हम-ए-काफ़ूर से मुँह आ गया नासूर का

इस क़दर मुश्ताक़ हूँ ज़ाहिद ख़ुदा के नूर का
बुत भी बनवाया कभी मैं ने तो संग-ए-तूर का

तुझ को लाए घर में जन्नत को जलाया रश्क से
हम-बग़ल तुझ से हुए पहलू दबाया हूर का

गोेर-ए-काफ़िर किस लिए है तीरा-ओ-तार इस क़दर
पड़ गया साया मगर मेरी शब-ए-दीजूर का

हुस्न-ए-यूसुफ़ और तेरे हुस्न में इतना है फ़र्क़
चोट ये नज़दीक की है वार था वो दौर का

क़स्र-ए-तन बिगड़ा किसी का गोरकन की बन पड़ी
घर किसी का गिर पड़ा घर बिन गया मज़दूर का

चेहरा-ए-जानाँ से शर्मा कर छुपाया ख़ुल्द में
ख़ामा-ए-तक़दीर ने खींचा जो नक़्शा हूर का

हाजत-ए-मुश्शाता क्या रुख़्सार-ए-रौशन के लिए
देख लो गुल काटता है कौन शम-ए-तूर का

ज़ुल्फ़-ओ-रू-ए-यार से नैरंग-ए-क़ुदरत है अयाँ
महर के पंजे में है दामन शब-ए-दीजूर का

ख़ाकसारी कर जो हो मंज़ूर आँखों में जगह
ख़ाक हो कर सुर्मा बिन जाता है पत्थर तौर का

ग़ाफ़िलों के कान कब खुलते हैं सन कर शोर-ए-हश्र
सोने वालों को जगा सकता नहीं ग़ुल दूर का

पूछ लेना सब वतन का हाल ऐ अहल-ए-अदम
बैठ लेने दो ज़रा आता हूँ उट्ठा दौर का

इज्ज़ करते हैं अदू-ए-जान से भी ख़ासान-ए-हक़
झुक गया सर आगे पा-ए-दार पर मंसूर का

मौत क्या आई तप-ए-फ़ुर्क़त से सेहत हो गई
दम निकलने से बदन ठंडा हुआ रंजूर का

जाते हैं मय-ख़ाना-ए-आलम से हम सू-ए-अदम
कह दो अज़-ख़ुद-रफ़्तगी से है इरादा दूर का

मूज़ियों को हादसों से दहर के क्या ख़ौफ़ है
बारिश-ए-बाराँ से घर गिरता नहीं ज़ंबूर का

चश्म-ए-साग़र बे-सबब हर दम लहू रोती नहीं
मुग़्बचों से साक़िया दिल फट गया अंगूर का

जाते हैं मय-ख़ाना-ए-आलम से हम सू-ए-अदम
कह दो अज़-ख़ुद-रफ़्तगी से है इरादा दूर का

की नज़र जिस पर कुदूरत से रहा ख़ामोश वो
है असर गर्द-ए-निगाह-ए-यार में सिन्दूर का

जल्वा-ए-माशूक़ हर जा है बसीरत हो अगर
किर्मक-ए-शब-ताब में आलम है शम-ए-तूर का

मर के यारान-ए-अदम के पास पहुँचूँगा 'अमीर'
चलते चलते जान जाएगी सफ़र है दूर का

- Ameer Minai
0 Likes

Khudkushi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Minai

As you were reading Shayari by Ameer Minai

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Minai

Similar Moods

As you were reading Khudkushi Shayari Shayari