phoolon mein agar hai boo tumhaari | फूलों में अगर है बू तुम्हारी - Ameer Minai

phoolon mein agar hai boo tumhaari
kaanton mein bhi hogi khoo tumhaari

us dil pe hazaar jaan sadqe
jis dil mein hai aarzoo tumhaari

do din mein guloo bahaar kya ki
rangat vo rahi na boo tumhaari

chatka jo chaman mein guncha-e-gul
boo de gai guftugoo tumhaari

mushtaaq se door bhaagti hai
itni hai ajal mein khoo tumhaari

gardish se hai mehr-o-mah ke saabit
un ko bhi hai justuju tumhaari

aankhon se kaho kami na karna
ashkon se hai aabroo tumhaari

lo sard hua main neem-bismil
poori hui aarzoo tumhaari

sab kahte hain jis ko lailatul-qadr
hai kaakul-e-mushk-boo tumhaari

tanhaa na firo ameer shab ko
hai ghaat mein har adoo tumhaari

फूलों में अगर है बू तुम्हारी
काँटों में भी होगी ख़ू तुम्हारी

उस दिल पे हज़ार जान सदक़े
जिस दिल में है आरज़ू तुम्हारी

दो दिन में गुलू बहार क्या की
रंगत वो रही न बू तुम्हारी

चटका जो चमन में ग़ुंचा-ए-गुल
बू दे गई गुफ़्तुगू तुम्हारी

मुश्ताक़ से दूर भागती है
इतनी है अजल में ख़ू तुम्हारी

गर्दिश से है महर-ओ-मह के साबित
उन को भी है जुस्तुजू तुम्हारी

आँखों से कहो कमी न करना
अश्कों से है आबरू तुम्हारी

लो सर्द हुआ मैं नीम-बिस्मिल
पूरी हुई आरज़ू तुम्हारी

सब कहते हैं जिस को लैलतुल-क़द्र
है काकुल-ए-मुश्क-बू तुम्हारी

तन्हा न फिरो 'अमीर' शब को
है घात में हर अदू तुम्हारी

- Ameer Minai
1 Like

Dua Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Minai

As you were reading Shayari by Ameer Minai

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Minai

Similar Moods

As you were reading Dua Shayari Shayari