hawa hi lau ko ghataati wahi badhaati hai | हवा ही लौ को घटाती वही बढ़ाती है - Amjad Islam Amjad

hawa hi lau ko ghataati wahi badhaati hai
ye kis gumaan mein duniya diye jalaati hai

bhatkne waalon ko kya farq is se padta hai
safar mein kaun sadak kis taraf ko jaati hai

ajeeb khauf ka gumbad hai mere chaar-taraf
meri sada mere kaanon mein laut aati hai

vo jis bhi raah se guzre jahaan qayaam kare
zameen wahan ki sitaaron se bharti jaati hai

ye zindagi bhi kahi ho na shehrezaad ka roop
shabaana roz kahaani nayi sunaati hai

हवा ही लौ को घटाती वही बढ़ाती है
ये किस गुमान में दुनिया दिए जलाती है

भटकने वालों को क्या फ़र्क़ इस से पड़ता है
सफ़र में कौन सड़क किस तरफ़ को जाती है

अजीब ख़ौफ़ का गुम्बद है मेरे चार-तरफ़
मिरी सदा मिरे कानों में लौट आती है

वो जिस भी राह से गुज़रे जहाँ क़याम करे
ज़मीं वहाँ की सितारों से भरती जाती है

ये ज़िंदगी भी कहीं हो न शहरज़ाद का रूप
शबाना रोज़ कहानी नई सुनाती है

- Amjad Islam Amjad
1 Like

Charagh Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Amjad Islam Amjad

As you were reading Shayari by Amjad Islam Amjad

Similar Writers

our suggestion based on Amjad Islam Amjad

Similar Moods

As you were reading Charagh Shayari Shayari