kisi ki aankh mein khud ko talash karna hai | किसी की आँख में ख़ुद को तलाश करना है - Amjad Islam Amjad

kisi ki aankh mein khud ko talash karna hai
phir us ke b'ad hamein aainon se darna hai

falak ki band gali ke faqeer hain taare
ki ghoom phir ke yahin se unhen guzarna hai

jo zindagi thi meri jaan tere saath gai
bas ab to umr ke naqshe mein waqt bharna hai

jo tum chalo to abhi do qadam mein kat jaaye
jo fasla mujhe sadiyon mein paar karna hai

to kyun na aaj yahin par qayaam ho jaaye
ki shab qareeb hai aakhir kahi theharna hai

vo mera sail-e-talb ho ki teri raanaai
chadha hai jo bhi samundar use utarna hai

sehar hui to sitaaron ne moond leen aankhen
vo kya karein ki jinhen intizaar karna hai

ye khwaab hai ki haqeeqat khabar nahin amjad
magar hai jeena yahin par yahin pe marna hai

किसी की आँख में ख़ुद को तलाश करना है
फिर उस के ब'अद हमें आइनों से डरना है

फ़लक की बंद गली के फ़क़ीर हैं तारे!
कि घूम फिर के यहीं से उन्हें गुज़रना है

जो ज़िंदगी थी मिरी जान! तेरे साथ गई
बस अब तो उम्र के नक़्शे में वक़्त भरना है

जो तुम चलो तो अभी दो क़दम में कट जाए
जो फ़ासला मुझे सदियों में पार करना है

तो क्यूँ न आज यहीं पर क़याम हो जाए
कि शब क़रीब है आख़िर कहीं ठहरना है

वो मेरा सैल-ए-तलब हो कि तेरी रानाई
चढ़ा है जो भी समुंदर उसे उतरना है

सहर हुई तो सितारों ने मूँद लीं आँखें
वो क्या करें कि जिन्हें इंतिज़ार करना है

ये ख़्वाब है कि हक़ीक़त ख़बर नहीं 'अमजद'
मगर है जीना यहीं पर यहीं पे मरना है

- Amjad Islam Amjad
0 Likes

Mashwara Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Amjad Islam Amjad

As you were reading Shayari by Amjad Islam Amjad

Similar Writers

our suggestion based on Amjad Islam Amjad

Similar Moods

As you were reading Mashwara Shayari Shayari