band tha darwaaza bhi aur agar mein bhi tanhaa tha main | बंद था दरवाज़ा भी और अगर में भी तन्हा था मैं - Amjad Islam Amjad

band tha darwaaza bhi aur agar mein bhi tanhaa tha main
vaham tha jaane mera ya aap hi bola tha mein

yaad hai ab tak mujhe vo bad-havaasi ka samaan
tere pehle khat ko ghanton choomta rehta tha main

raaston par teergi ki ye faraavani na thi
is se pehle bhi tumhaare shehar mein aaya tha main

meri ungli par hain ab tak mere daanton ke nishaan
khwaab hi lagta hai phir bhi jis jagah baitha tha main

aaj amjad vaham hai mere liye jis ka vujood
kal usi ka haath thaame ghoomta firta tha main

बंद था दरवाज़ा भी और अगर में भी तन्हा था मैं
वहम था जाने मिरा या आप ही बोला था में

याद है अब तक मुझे वो बद-हवासी का समाँ
तेरे पहले ख़त को घंटों चूमता रहता था मैं

रास्तों पर तीरगी की ये फ़रावानी न थी
इस से पहले भी तुम्हारे शहर में आया था मैं

मेरी उँगली पर हैं अब तक मेरे दाँतों के निशाँ
ख़्वाब ही लगता है फिर भी जिस जगह बैठा था मैं

आज 'अमजद' वहम है मेरे लिए जिस का वजूद
कल उसी का हाथ थामे घूमता फिरता था मैं

- Amjad Islam Amjad
0 Likes

Gaon Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Amjad Islam Amjad

As you were reading Shayari by Amjad Islam Amjad

Similar Writers

our suggestion based on Amjad Islam Amjad

Similar Moods

As you were reading Gaon Shayari Shayari